Vijay Diwas - ​1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत की वो दास्तां जिसने बांग्लादेश को जन्म दिया

एक नए देश के तौर पर बांग्लादेश के बनने में भारत की क्या अहम भूमिका थी और क्यों? आइए आपको विजय दिवस की उस कहानी से रूबरू कराते हैं। जिसे जानना हर देशवासी के लिए जरूरी है।
Vijay Diwas - ​1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत की  वो दास्तां जिसने  बांग्लादेश  को जन्म दिया

पाक पर जीत के बाद भारतीय जवानों शुक्रिया अदा करते बांग्लादेश के  लोग।

Photo by Jack Garofalo/Paris Match/ Getty images

भारत के विजय दिवस को इस साल 2021 के 16 दिसंबर गुरुवार को 50 साल पूरे हो रहे हैं। भारत के विजय दिवस का बांग्लादेश के एक राष्ट्र के तौर पर अस्तित्व में आने से क्या संबंध है? एक नए देश के तौर पर बांग्लादेश के बनने में भारत की क्या अहम भूमिका थी और क्यों? आइए आपको विजय दिवस की उस कहानी से रूबरू कराते हैं। जिसे जानना हर देशवासी के लिए जरूरी है।

दरअसल 1971 का युद्ध भारत और पाक के बीच एक सैन्य संघर्ष था। इस संघर्ष का आगाज 3 दिसंबर 1971 को तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान के कारण पाकिस्तान द्वारा 11 भारतीय वायु सेना स्टेशनों पर हवाई हमलों के साथ हुआ। नतीजा ये रहा कि भारतीय सेना पूर्वी पाकिस्तान में बांग्लादेश की आजादी के बिगुल में बंगाली राष्ट्रवादी समुदायों का सपोर्ट करने के लिए राजी हो गई।

युद्ध की नौबत कैसे आई?
साल 1970 में पाकिस्तान में इलेक्श आयोजित हुए, इसमें ईस्ट पाकिस्तान आवामी लीग ने बड़ी तादाद में सीटों पर कब्जा जमाकर हुकूमत का दावा ठोका। लेकिन जुल्फिकार अली भुट्टो जो पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी थे, वे पाकिस्तान आवामी लीग की इस जीत से सहमत नहीं हुए। नतीजन उन्होंने इसका विरोध किया। इसके बाद स्थिति इतनी बद्तर हो गई की सेना को बीच में आना पड़ा। पूर्वी पाकिस्तान के आवामी लीग के शेख मुजीबुर्रहमान को हिरासत में ले लिया गया। यहीं से पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान में खाई गहरी होती चली गई। समय के साथ सेना के जुल्मों से विवाद इतना बढ़ गया कि पूर्वी पाकिस्तान की आवाम जो पश्चिमी पाकिस्तान में थी वो पश्चिम से पलायन को मजबूर हो गई।

Getty images

भारत ने विश्वस्तर पर पाक पर प्रेशर बनाने के प्रयास किए

जब ईस्ट पाकिस्तान से रिफ्यूजी भारत आए थे और उन्हें भारत में अस्थाई तौर पर मूलभूत सुविधाएं दी गईं। ये सब देखकर पाकिस्तान आग बबुला होकर भारत पर हमले की धमकी देने लगा।

इसके बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रयास किए, ताकि कोई युद्ध न होकर इसका समाधान निकाला जा सके और शरणार्थी सुरक्षित घर लौट आएं लेकिन पाक के मंसूबों ने ऐसा नहीं होने दिया।

पाक के रिफ्यूजी पूर्वी पाकिस्तान की सीमा से लगे भारतीय राज्यों में पहुंचे थे। कहा जाता है कि लगभग दस लाख लोग रिफ्यूजी के तौर पर भारत आए थे।

इस सिचुएशन में भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भारतीय सेना को युद्ध की तैयारी के आदेश दिए और दूसरी ओर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान पर दबाव बनाने के प्रयास शुरू कर दिए।

तत्कालीन भारतीय सेना प्रमुख सैम मानेकशॉ की मौजूदगी में अमेरिका के नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर हेनरी किसिंजर के साथ बैठक में इंदिरा गांधी ने साफ शब्दों में कह दिया कि यदि अमेरिका ने पाकिस्तान पर लगाम नहीं कसी तो मजबूरन भारत को पाकिस्तान पर सैन्य कार्रवाई करनी पड़ेगी।

<div class="paragraphs"><p>बांग्लादेश मुक्ति संग्राम, 26 जून 1971 के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर बोंगांव में एक अस्थायी शिविर में शरणार्थी।</p></div>

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम, 26 जून 1971 के दौरान भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर बोंगांव में एक अस्थायी शिविर में शरणार्थी।

Photo by Mark Edwards/Getty Images

पूर्वी पाकिस्तान के आंतरिक कलह के कारण भारत का माहौल खराब हो रहा था
तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का मानना था कि पूर्वी पाकिस्तान में जो हो रहा था वह पाकिस्तान का आंतरिक मामला नहीं था। इसकी वजह ये थी कि पाकिस्तान के इस बवाल के कारण भारत में माहौल खराब हो रहा था। पाकिस्तान के लिए अमेरिका के समर्थन को देखकर इंदिरा गांधी ने 9 अगस्त 1971 को सोवियत संघ के साथ ऐसा समझौता किया था जिसके तहत दोनों देशों ने एक-दूसरे की सुरक्षा का आश्वासन दिया।

भावी बंग्लादेश के लिए मुक्तिवाहिनी सेना ऐसे अस्तित्व में आई

पूर्वी पाकिस्तान में हालात बद से बदतर होने लेगे। पुलिस, अर्धसैनिक बल, पूर्वी बंगाल रेजिमेंट और पूर्वी पाकिस्तान राइफल्स के बंगाली सैनिकों ने पाकिस्तानी सेना के खिलाफ ​बगावत कर खुद को आजाद घोषित कर दिया।

इसमें भारत ने भी मदद की और वहां के लोगों को सोल्जर ट्रेनिंग दी। इससे वहां मुक्ति वाहिनी सेना अस्ति​त्व में आई। बता दें कि नवंबर के आखिरी हफ्ते में पाक विमानों ने भारतीय हवाई क्षेत्र में प्रवेश करना शुरू कर दिया था।

इस पर भारत की ओर से पाकिस्तान को चेतावनी दी गई, लेकिन पाकिस्तानी राष्ट्रपति याहिया ने 10 दिनों के भीतर युद्ध की धमकी दे डाली थी।

fox photos/Getty Images

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आधी रात देश को रेडियो पर संबोधित किया

परिणाम के तौर पर 3 दिसंबर 1971 को पाक विमानों ने भारत के कुछ शहरों पर हवाई हमले शुरू कर दिए। भारत की प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उसी समय आधी रात पूरे देश को आकाशवाणी के माध्यम से संबोधित कर कहा कि "कुछ घंटे पहले पाकिस्तानी हवाई जहाजों ने हमारे अमृतसर, पठानकोट, फरीदकोट श्रीनगर, हलवारा, अंबाला, आगरा, जोधपुर, जामनगर के एयर बेस पर हवाई हमले किए है।"

इस तरह भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध का आगाज हुआ। इसके बाद प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भारतीय सेना को ढाका की ओर बढ़ने को आदेश दिया। वहीं भारतीय वायु सेना ने पश्चिमी पाकिस्तान में महत्वपूर्ण ठिकानों और हवाई अड्डों पर बमबारी शुरू कर दी।

4 दिसंबर 1971 को ऑपरेशन ट्राइडेंट इंडिया शुरू हुआ। इस ऑपरेशन में भारतीय नौसेना ने बंगाल की खाड़ी में समुद्र की ओर से पाकिस्तानी नौसेना से मुकाबला किया और दूसरी तरफ पश्चिमी पाकिस्तान की सेना को भी धूल चटाई। 5 दिसंबर 1971 को, भारतीय नौसेना ने कराची के बंदरगाह पर बमबारी करके पाकिस्तानी नौसेना मुख्यालय को निस्तेनाबूत कर दिया।

Photo by Rolls Press/Popperfoto via Getty Images

जब तात्कालीन पीएम इंदिरा गांधी ने पूर्वी पाकिस्तान को नया राष्ट्र घोषित किया
यही वो समय था जब इंदिरा गांधी ने पूर्वी पाकिस्तान को एक नए राष्ट्र बांग्लादेश के रूप में बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने घोषणा की कि अब बांग्लादेश एक नया राष्ट्र होगा। अब यह पाकिस्तान का नहीं बल्कि एक स्वतंत्र राष्ट्र का हिस्सा होगा।
<div class="paragraphs"><p>पूर्वी पाकिस्तान की राजधानी में प्रवेश के बाद भारतीय सैनिक 16 दिसंबर को खुशी मनाते हुए। एक सैनिक अवामी लीग के प्रमुख शेख मुजीबुर रहमान की तस्वीर लिए है। इसके बाद पूर्वी मोर्चे पर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध औपचारिक रूप से समाप्त हो गया था, क्योंकि पाकिस्तानी सेना ने बिना शर्त आत्मसमर्पण कर दिया था।</p></div>

पूर्वी पाकिस्तान की राजधानी में प्रवेश के बाद भारतीय सैनिक 16 दिसंबर को खुशी मनाते हुए। एक सैनिक अवामी लीग के प्रमुख शेख मुजीबुर रहमान की तस्वीर लिए है। इसके बाद पूर्वी मोर्चे पर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध औपचारिक रूप से समाप्त हो गया था, क्योंकि पाकिस्तानी सेना ने बिना शर्त आत्मसमर्पण कर दिया था।

Getty images

भारतीय सेना ने ढाका में पाकिस्तान के गवर्नर हाउस पर धावा बोला

अमेरिका और सोवियत संघ दोनों महाशक्तियां अप्रत्यक्ष रूप से इस युद्ध का हिस्सा थीं। यह सब देखते हुए 14 दिसंबर को भारतीय सेना ने ढाका में पाकिस्तान के गवर्नर हाउस पर धावा बोल दिया। उस वक्त पाकिस्तान के तमाम दिग्गज नेता और अधिकारी बैठक करने की तैयारी कर रहे थे।

इस हमले के बाद पाकिस्तान घबरा गया और जनरल नियाज़ी ने युद्धविराम का प्रस्ताव भेजा। नतीजा ये हुआ कि 16 दिसंबर 1971 को दोपहर करीब 2:30 बजे आत्मसमर्पण की प्रक्रिया शुरू हुई। इसमें लगभग 93,000 पाकिस्तानी बलों ने आत्मसमर्पण किया।

इस युद्ध को भारत के लिए एक ऐतिहासिक युद्ध माना जाता है। 16 दिसंबर को पूरे देश में पाकिस्तान पर भारत की जीत के उपलक्ष्य में 'विजय दिवस' के रूप में मनाया जाता है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 1971 के युद्ध में लगभग 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे और लगभग 9,851 घायल हुए थे।

इसी 16 दिसंबर, 1971 के दिन को विजय दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन के ​बाद से पूर्वी पाकिस्तान पश्चिमी पाकिस्तान से आजाद हो गया और बांग्लादेश एक नए राष्ट्र के तौर पर जाना जाने लगा।

1971 के भारत-पाक युद्ध की मुख्य बातें

  • मीडिया ने पाकिस्तानी सेना के हाथों बंगालियों, मुख्य रूप से हिंदुओं के खिलाफ व्यापक नरसंहार की सूचना दी थी, जिसने लगभग 10 मिलियन लोगों को पड़ोसी भारत में प्रवास करने के लिए मजबूर किया। भारत ने बंगाली शरणार्थियों के लिए अपनी सीमाएं खोल दीं।

  • भारत-पाक युद्ध प्रभावी रूप से उत्तर-पश्चिमी भारत के हवाई क्षेत्रों में पाकिस्तान वायु सेना (पीएएफ) द्वारा पूर्वव्यापी हवाई हमलों के बाद शुरू हुआ, जिसमें आगरा को इसके ऑपरेशन चंगेज खान के हिस्से के रूप में शामिल किया गया था। ताजमहल को दुश्मन के विमानों से छिपाने के लिए टहनियों और पत्तियों से ढक दिया गया था।

  • जवाब में भारतीय वायुसेना ने पश्चिमी मोर्चे पर करीब 4000 और पूर्व में करीब दो हजार सामरिक उड़ानें भरीं। जबकि, पाकिस्तान वायु सेना दोनों मोर्चों पर लगभग 2800 और 30 सामरिक उड़ानें ही कर पाई। IAF ने युद्ध के अंत तक पाकिस्तान में आगे के हवाई ठिकानों पर छापेमारी जारी रखी।

  • भारतीय नौसेना की पश्चिमी नौसेना कमान ने कोडनेम ट्राइडेंट के तहत 4-5 दिसंबर की रात कराची बंदरगाह पर औचक हमला किया।

  • पाकिस्तान ने पश्चिमी मोर्चे पर भी अपने सैनिकों को लामबंद किया था। भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई की और कई हजार किलोमीटर पाकिस्तानी क्षेत्र पर कब्जा कर लिया।

  • पाकिस्तान को हताहत हुए, जिसमें लगभग 8000 लोग मारे गए और अधिकतम 25,000 घायल हुए, जबकि, भारत ने 3000 सैनिकों को खो दिया और 12,000 घायल हो गए।

  • पूर्वी पाकिस्तान में मुक्ति वाहिनी गुरिल्लाओं ने पूर्व में पाकिस्तानी सैनिकों के खिलाफ लड़ने के लिए भारतीय सेना के साथ हाथ मिलाया। उन्होंने भारतीय सेना से हथियार और प्रशिक्षण प्राप्त किया।

  • सोवियत संघ ने उनके मुक्ति आंदोलन और भारत के साथ युद्ध में पूर्वी पाकिस्तानियों का साथ दिया। दूसरी ओर, रिचर्ड निक्सन की अध्यक्षता में संयुक्त राज्य अमेरिका ने आर्थिक और भौतिक रूप से पाकिस्तान का समर्थन किया। अमेरिका को युद्ध की समाप्ति के लिए समर्थन दिखाने के लिए बंगाल की खाड़ी में एक विमान तैनात करना था।

  • युद्ध के अंत में, जनरल अमीर अब्दुल्ला खान नियाज़ी के नेतृत्व में लगभग 93,000 पाकिस्तानी जवानों ने मित्र देशों की सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। जिसके बाद 1972 के शिमला समझौते के तहत उन्हें वापस कर दिया गया था।

  • पाकिस्तान की अपनी आधी से ज्यादा आबादी छिन चुकी थी, क्योंकि बांग्लादेश की आबादी पश्चिमी पाकिस्तान से ज्यादा थी। इसकी लगभग एक तिहाई सेना पर कब्जा कर लिया गया था। भारत का सैन्य प्रभुत्व बता रहा था कि उसने जीत के प्रति अपनी प्रतिक्रिया पर संयम बनाए रखा ​था।

<div class="paragraphs"><p>पाक पर जीत के बाद भारतीय जवानों शुक्रिया अदा करते बांग्लादेश के&nbsp; लोग।</p></div>
लखीमपुर खीरी हिंसा पर रिपोर्टिंग से बिफरे मंत्रीजी : अजय मिश्र टेनी पत्रकार को मारने को दौड़े, बोले, तुम्हारा दिमाग खराब है.. VIDEO VIRAL

Like and Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com