भारत को क्यों घोषित किया गया Cancer Capital? जानें वजह

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर भारत को दुनिया का "Cancer Capital" घोषित किया गया है। अपोलो हॉस्पिटल की हेल्थ ऑफ नेशन रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में कैंसर के 14 लाख मरीज थे। जो 2040 में बढ़कर 20 लाख तक पहुंच सकते हैं।
भारत को क्यों घोषित किया गया Cancer Capital? जानें वजह
भारत को क्यों घोषित किया गया Cancer Capital? जानें वजह

विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर भारत को दुनिया का "Cancer Capital" घोषित किया गया है। अपोलो हॉस्पिटल की हेल्थ ऑफ नेशन रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में कैंसर के 14 लाख मरीज थे। जो 2040 में बढ़कर 20 लाख तक पहुंच सकते हैं।

रिपोर्ट में कैंसर के अलावा कई अन्य पहलुओं पर भी विचार किया गया। यह देखने में आया है कि भारत के युवा गैर-संचारी रोगों के प्रति अधिक संवेदनशील हो गए हैं।

एक तिहाई भारतीय प्री-डायबिटीज हैं। यानी वे कभी भी डायबिटीज का शिकार हो सकते हैं। वहीं दो-तिहाई भारतीय प्री-हाइपरटेंशन की स्टेज पर हैं। यानी हाइपरटेंशन की चपेट में आने वाले हैं।

उच्च कैंसर दर के कारण

भारत में कैंसर के बढ़ते मामलों के पीछे बदलती जीवनशैली, पर्यावरण में बदलाव, सामाजिक और आर्थिक चुनौतियां मुख्य कारण हैं।

तंबाकू के सेवन से फेफड़े, मुंह और गले के कैंसर का खतरा बढ़ रहा है। वायु प्रदूषण के कारण कैंसर पैदा करने वाले कण शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिससे विभिन्न प्रकार के कैंसर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।

प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के बढ़ते सेवन और शारीरिक गतिविधि में कमी के कारण मोटापा बढ़ रहा है, जिससे स्तन कैंसर और पेट के कैंसर में वृद्धि हो रही है। शहरी महिलाओं में स्तन और डिम्बग्रंथि कैंसर की घटनाओं में वृद्धि के लिए देर से विवाह और गर्भधारण की कम उम्र जिम्मेदार है।

भारत में कैंसर के प्रकार

1. स्तन कैंसर- यह महिलाओं को प्रभावित करने वाले सबसे ज्यादा कैंसर में से एक है। इससे प्रभावित महिलाएं अधिकतर 50 वर्ष से कम उम्र की होती हैं। यह कैंसर मुख्य रूप से देर से विवाह, प्रसव, सीमित स्तनपान प्रथाओं, आनुवंशिकी, हार्मोनल असंतुलन, शराब, जीवनशैली, व्यायाम की कमी और अस्वास्थ्यकर आहार जैसे कारकों के कारण होता है।

2. सर्वाइकल कैंसर- सर्वाइकल कैंसर भारतीय महिलाओं में पाया जाने वाला कैंसर है। इसका मुख्य कारण स्वच्छता और जागरूकता की कमी है। इस प्रकार का कैंसर ह्यूमन पैपिलोमावायरस (एचपीवी) वायरस के कारण होता है। इसके अलावा असुरक्षित यौन संबंध, एक से अधिक लोगों के साथ यौन संबंध, धूम्रपान, पोषण की कमी और यदि किसी का शरीर बीमारी से लड़ने में बहुत मजबूत नहीं है, तो उन्हें सर्वाइकल कैंसर होने की संभावना अधिक हो सकती है।

3. मुंह का कैंसर- भारत में धुआं रहित तंबाकू, जैसे गुटखा और पान मसाला के बड़े पैमाने पर उपयोग के कारण मुंह के कैंसर के मामलों में तेजी से वृद्धि देखी गई है। इस प्रकार का कैंसर पीड़ित के मुंह को प्रभावित करता है। स्थिति तब और खराब हो जाती है जब आहार में फलों और सब्जियों का सेवन कम हो जाता है।

4. प्रोस्टेट कैंसर- यह महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में पाया जाने वाला सबसे आम प्रकार का कैंसर है। प्रोस्टेट कैंसर का अर्थ है प्रोस्टेट ऊतक में कैंसर कोशिकाएं बनती हैं। अधिकांश अन्य कैंसरों की तुलना में प्रोस्टेट कैंसर धीरे-धीरे बढ़ता है। ट्यूमर के लक्षण पैदा करने लायक बड़ा होने से 10, 20, या 30 साल पहले कोशिका परिवर्तन शुरू हो सकता है।

5. फेफड़ों का कैंसर- यह कैंसर आमतौर पर चेन स्मोकर्स में देखा जाता है। इसके अलावा इसके अन्य जोखिम कारकों में वायु प्रदूषण, रेडॉन गैस के संपर्क में आना और पारिवारिक इतिहास शामिल हैं। फेफड़ों का कैंसर अधिकतर दो प्रकार का होता है। छोटी कोशिका और गैर-छोटी कोशिका।

कैंसर के खतरे को कम करने के उपाय


1.स्वस्थ आहार लें- फिट और स्वस्थ रहने के लिए संतुलित आहार बहुत महत्वपूर्ण है। संतुलित आहार में साबुत अनाज, फल और सब्जियां शामिल होनी चाहिए।


2. नियमित चेकअप- कैंसर की रोकथाम में सहायता के लिए कई कैंसर स्क्रीनिंग परीक्षण उपलब्ध हैं। कैंसर का शीघ्र पता लगने से उपचार उचित समय पर शुरू करने में मदद मिल सकती है। यह मेडिकल परीक्षण से संभव हुआ है।


3. नियमित रूप से स्वास्थ्य जांच - कैंसर का काफी समय तक निदान नहीं हो पाता। क्योंकि इसके फैलने और लक्षण विकसित होने में काफी समय लगता है। इसलिए रोग के प्रारंभिक लक्षणों की पहचान करने और उपचार प्राप्त करने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच कराना आवश्यक है।


4. धूप में कम रहना- हालांकि धूप में रहना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, लेकिन अधिक धूप में रहने से त्वचा कैंसर हो सकता है। इस प्रकार खुद को धूप से बचाने के लिए सनस्क्रीन और अन्य सुरक्षात्मक गियर का उपयोग करना महत्वपूर्ण है।


5. धूम्रपान, तंबाकू और शराब का सेवन बंद करें- किसी भी प्रकार के तंबाकू उत्पादों का उपयोग कैंसर के खतरे को बढ़ा सकता है। बहुत अधिक शराब पीने से कैंसर और अन्य खतरनाक बीमारियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है। भारी शराब पीने से लीवर की यह स्थिति अंततः कैंसर का कारण बन सकती है।

भारत को क्यों घोषित किया गया Cancer Capital? जानें वजह
राजस्थान के इस जिले में है सबसे ज्यादा शतायु वोटर्स

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com