BJP छापेमारी कर जैन समुदाय को बना रही निशाना : अखिलेश यादव

एक और अल्पसंख्यक एंग्लो-इंडियन के पास यूपी विधानसभा में एक सीट आरक्षित थी, लेकिन मुख्यमंत्री ने इसे भी खत्म कर दिया
BJP छापेमारी कर जैन समुदाय को बना रही निशाना : अखिलेश यादव

अखिलेश यादव

उत्तरप्रदेश विधान सभा में चुनावी दाव -पेंच खेलना शुरू होगये है। चुनाव के दौरान हर पार्टी अपने पासे फेंख रही है। अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का लड़की हुँ लड़ सकती हूँ कैम्पेन हो या फिर टैक्स की छापेमारी के दौरान राजनितिक जाति - वाद का रंग हर पार्टी अपने अनुसार वोट की चोट पर अपना खेल, खेल रही है।

वही समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा अल्पसंख्यक जैन समुदाय को निशाना बना रही है। जिन इत्र व्यापारियों (पीयूष जैन और पुष्पराज जैन) के यहां छापेमारी हुई वे दोनों ही जैन समुदाय से हैं।

अखिलेश ने कहा, "करीब 50 लाख जैन हैं जो अपनी मेहनत से यहां पहुंचे हैं, लेकिन भाजपा उन्हें निशाना बना रही है और परेशान करने के लिए छापेमारी कर रही है।"

उन्होंने कहा, "बस इतना ही नहीं। एक और अल्पसंख्यक एंग्लो-इंडियन के पास यूपी विधानसभा में एक सीट आरक्षित थी, लेकिन मुख्यमंत्री ने इसे भी खत्म कर दिया।"

<div class="paragraphs"><p> </p></div>

समाजवादी पार्टी को निशाना बना रहे हैं ?

रविवार को अपनी 10वीं विजय यात्रा शुरू करने वाले अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार ने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी है जहां समाज का हर वर्ग सरकार में बदलाव की तलाश में है।

यात्रा के दौरान अखिलेश ने पूर्वाचल एक्सप्रेस-वे के किनारे महुराकलां गांव में नवनिर्मित भगवान परशुराम के मंदिर में पूजा-अर्चना की।

उन्होंने कहा कि भाजपा नेता और मुख्यमंत्री अपने भाषणों में भाजपा सरकार के तहत किए गए विकास कार्यो को दिखाने के बजाय केवल समाजवादी पार्टी को निशाना बना रहे हैं।

उन्होंने कहा, "वे अपने 'संकल्प पत्र' में किसानों की आय को दोगुना करने में विफल होने की बात कभी नहीं करेंगे। वे कभी नौकरियों की बात नहीं करेंगे जो उन्होंने युवाओं से वादा किया था। यह भाजपा की गलत नीतियों के कारण है कि आवश्यक वस्तुओं की कीमतें दिन पर दिन बढ़ रही हैं।

ike Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube


<div class="paragraphs"><p>अखिलेश यादव</p></div>
CM Ashok Gehlot : राजस्थान में आर्थिक व्यवस्था को तगड़ा झटका

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com