Muslim University विवाद: हरीश रावत की धमकी के सामने झुकी कांग्रेस, अकील अहमद 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित

कांग्रेस के चुनाव अभियान की कमान संभालने वाले हरीश रावत ने बार-बार यह सवाल उठाया था कि अहमद कौन हैं और उन्हें पार्टी में इतना ऊंचा स्थान किसने दिया! रावत ने बार-बार कहा कि मुस्लिम विश्वविद्यालय के बारे में बयानबाजी की और जिस तरह से भाजपा ने इस "झूठे" आरोप पर प्रचार किया। वह कांग्रेस की हार का मुख्य कारण था। वहीं कांग्रेस ने एक बड़ा कदम उठाया है, पढ़िए...
रावत ने बार-बार कहा कि मुस्लिम विश्वविद्यालय के बारे में बयानबाजी की और जिस तरह से भाजपा ने इस "झूठे" आरोप पर प्रचार किया। वह कांग्रेस की हार का मुख्य कारण था। वहीं कांग्रेस ने एक बड़ा कदम उठाया है, पढ़िए...
रावत ने बार-बार कहा कि मुस्लिम विश्वविद्यालय के बारे में बयानबाजी की और जिस तरह से भाजपा ने इस "झूठे" आरोप पर प्रचार किया। वह कांग्रेस की हार का मुख्य कारण था। वहीं कांग्रेस ने एक बड़ा कदम उठाया है, पढ़िए...तस्वीर- navodaya times

उत्तराखंड कांग्रेस ने बड़ा कदम उठाते हुए पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष अकील अहमद को छह साल के लिए पार्टी से बाहर कर दिया है। उत्तराखंड चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी पर मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने दिए बयानों के आरोपों में अहमद नजरों में आए थे।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत लगातार इस मामले को उठाते रहे हैं और एक से अधिक बार कह चुके हैं कि यह मुद्दा उत्तराखंड में कांग्रेस की हार के मुख्य कारणों में से एक था। इन दिनों भी यह मुद्दा फिर से उठ खड़ा हुआ है, जिसे लेकर रावत ने चुनौती भरे अंदाज में राजनीति से संन्यास लेने की बात तक कह दी है।

हरीश रावत के लगातार विरोध के बाद कांग्रेस ने अकील अहमद पर बड़ी कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी पदों के साथ-साथ प्राथमिक सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। यह आदेश कांग्रेस के प्रदेश महासचिव मथुरादत्त जोशी ने एक पत्र जारी करते हुए दिया। जिसकी एक प्रति समाचार एजेंसी एएनआई ने एक ट्वीट के जरिए जारी की है।

ये वही अकील अहमद हैं, जिनका बयान चुनाव प्रचार के दौरान वायरल हो गया था। जिसमें अहमद ने कहा था कि कांग्रेस उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी खोलेगी और इसके लिए उन्होंने हरीश रावत से बातचीत की थी!

क्या हैं अहमद पर आरोप?

जोशी की ओर से जारी पत्र में अहमद को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाते हुए कहा गया कि पार्टी के निर्देश के बावजूद अहमद मीडिया में अनर्गल बयानबाजी करते रहे। मना करने के बाद भी वह किसी न किसी माध्यम से ऐसे बयान देते रहे, जिससे पार्टी को नुकसान हुआ। इस आरोप के साथ ही कांग्रेस ने अपने संविधान का हवाला देते हुए उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की।

रावत ने कहा कि अगर उन्होंने मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने के बारे में कुछ कहा है, ये साबित हो जाए तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि उनके खिलाफ यह आरोप तथ्यों के साथ साबित करने वालों को एक लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा।
रावत ने कहा कि अगर उन्होंने मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने के बारे में कुछ कहा है, ये साबित हो जाए तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि उनके खिलाफ यह आरोप तथ्यों के साथ साबित करने वालों को एक लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा।तस्वीर- www.tv9hindi.com

राजनीति छोड़ने को लेकर बोले हरीश रावत

मुस्लिम यूनिवर्सिटी को लेकर जारी विवाद पर हरीश रावत ने हाल ही में सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखते हुए कहा कि बीजेपी के साथ-साथ अब कांग्रेस के भी कुछ लोग उन पर बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं।

रावत ने कहा कि अगर उन्होंने मुस्लिम विश्वविद्यालय खोलने के बारे में कुछ कहा है, ये साबित हो जाए तो वह राजनीति से संन्यास ले लेंगे। इतना ही नहीं, उन्होंने चुनौती देते हुए कहा कि उनके खिलाफ यह आरोप तथ्यों के साथ साबित करने वालों को एक लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा।

रावत ने बार-बार कहा कि मुस्लिम विश्वविद्यालय के बारे में बयानबाजी की और जिस तरह से भाजपा ने इस "झूठे" आरोप पर प्रचार किया। वह कांग्रेस की हार का मुख्य कारण था। वहीं कांग्रेस ने एक बड़ा कदम उठाया है, पढ़िए...
पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के CM का इस्तीफा, इमरान खान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश, 31 मार्च को होगी वोटिंग
Since independence
hindi.sinceindependence.com