Rajasthan: कांग्रेस राज में बेटियां नहीं सुरक्षित! अब कांग्रेसी नेता की बेटी का अपहरण, 24 घंटे बाद भी सुराग नहीं

राजस्थान में सत्तादारी कांग्रेस पार्टी के नेता गोपाल केसावत की बेटी के अपहरण का मामला सामने आने के बाद महिला सुरक्षा को लेकर राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर सवाल खड़े हो रहे है। बता दें कि घटना के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ अब तक खाली है।
Rajasthan: कांग्रेस राज में बेटियां नहीं सुरक्षित! अब कांग्रेसी नेता की बेटी का अपहरण, 24 घंटे बाद भी सुराग नहीं

राजस्थान में सत्तादारी कांग्रेस पार्टी के नेता गोपाल केसावत की बेटी के अपहरण का मामला सामने आने के बाद महिला सुरक्षा को लेकर राजस्थान की सवाल खड़े हो रहे है। घटना के 24 घंटे बाद भी पुलिस के हाथ खाली है। घटना के वक्त बेटी ने अपने पिता गोपाल केसावत को फोन कर कहा था कि 'कुछ लड़के उसका पीछा कर रहे हैं। पापा, जल्दी आ जाओ।'

केसावत ने सोमवार की देर रात प्रताप नगर थाने में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ बेटी के अपहरण का मामला दर्ज कराया है। उधर, सीएसटी व पुलिस की टीम अभिलाषा केसावत (21) की तलाश में जुट गई है।

प्रतापनगर सीआई भजनलाल ने बताया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए हर पहलू की जांच की जा रही है। घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली जा रही है।

बीजेपी के निशाने- राजस्थान कांग्रेस सरकार

भाजपा के प्रदेश मंत्री और पूर्व प्रवक्ता ने ट्वीट करते हुए लिखा- 'कांग्रेस नेता और पूर्व राज्य मंत्री गोपाल केसावत की 21 साल की बेटी का जयपुर से अपहरण, केसावत ने अपनी ही सरकार पर सुरक्षा नहीं देने का आरोप लगाया ये है राजस्थान का मॉडल @RahulGandhi जी ?'

दूसरा ट्वीट करते हुए भारद्वाज ने लिखा- 'राजस्थान की राजधानी जयपुर से कांग्रेस नेता गोपाल केसावत जी की बेटी का अपहरण हो गया है … कांग्रेस के निकम्में शासन की शिकार , ये भी हमारे ही प्रदेश की बेटी है , कृपया मदद करें'

एयरपोर्ट रोड पर लावारिस हालत में मिली स्कूटी

रिपोर्ट में बताया गया कि अभिलाषा स्कूटी से सब्जी लेने एनआरआई सर्किल गई थी। जब वह वापस नहीं लौटी तो परिजनों ने तलाश शुरू की। जब कुछ नहीं मिला तो रात में थाने में मामला दर्ज कराया गया। इसी दौरान मंगलवार सुबह एयरपोर्ट रोड पर लावारिस हालत में स्कूटी खड़ी मिली।

बेटी का मोबाइल आ रहा स्विच ऑफ

मंगलवार दोपहर गोपाल केसावत अपने समर्थकों के साथ बेटी की तस्वीर लेकर जयपुर कमिश्नरेट पहुंचे। उसने बताया कि बेटी के अपहरण के बाद उसके मोबाइल पर कई बार कॉल किया। मोबाइल स्विच ऑफ है।

बेटी को सकुशल लाने की मांग

केसावत ने कहा कि 24 घंटे से हमें फुटेज या लोकेशन ट्रेस करके नहीं बताया गया है। अधिकारियों से बेटी को सकुशल लाने की मांग की जा रही है। मैंने कुछ संदिग्ध लोगों के नाम भी प्रभारी को बताए हैं। दो-तीन महीने पहले मेरी कार के शीशे भी टूट तोड़े गए थे। मैंने पहले भी सुरक्षा की मांगी थी।

केसावत ने कहा- बेटी ने बताया था, कुछ लोग पीछा कर रहे हैं

गोपाल केसावत ने पुलिस को बताया, 'अभिलाषा सोमवार शाम साढ़े पांच बजे घर से निकली थी। इसके बाद 6:05 बजे उसने मुझे कॉल किया और कहा- 'पापा, लड़के मेरे पीछे-पीछे आ गए हैं, तुरंत गाड़ी ले आओ।' इस पर मैं परिवार के अन्य सदस्यों के साथ तुरंत कार लेकर एनआरआई सर्किल के पास पहुंचा।

फिर वहां न तो उसे बेटी मिली और न ही उसकी स्कूटी। जब मैंने अपनी बेटी को फोन किया तो उसका मोबाइल बंद हो गया। इसके बाद उन्होंने अपने रिश्तेदारों और परिचितों के साथ मिलकर पूरे इलाके में तलाश की, लेकिन बेटी का कहीं पता नहीं चला. इसके बाद देर रात प्रतापनगर थाने पहुंचकर मामला दर्ज किया गया।

पिता को मिली स्कूटी

जिस स्कूटी पर अभिलाषा सब्जी लेने गई थी, वो स्कूटी आज सुबह गोपाल केसावत को एयरपोर्ट रोड पर लावारिस हालत में मिली। फिलहाल पुलिस एनआरआई सर्कल के साथ ही स्कूटी मिलने वाली जगह पर लगे सभी सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है।

गहलोत की पिछली सरकार में केसावत राजस्थान घुमंतू बोर्ड बोर्ड के अध्यक्ष थे। इसके साथ ही वे खानाबदोश प्रकोष्ठ के अध्यक्ष रह चुके हैं। इसके साथ ही वह लंबे समय से कांग्रेस में सक्रिय हैं।

Since independence
hindi.sinceindependence.com