Ajmer: अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में नजर आई कलह, चांदना के बोलते ही हंगामा, लगे पायलट जिंदाबाद के नारे

कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला की अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में राज्य मंत्री अशोक चंदना भाषण देने पहुंचे तो सचिन पायलट समर्थकों ने जूते व अन्य सामान फेंक कर हंगामा किया, जिसके चलते चांदना को भाषण बीच में ही छोड़ना पड़ा।
Ajmer: अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में नजर आई कलह, चांदना के बोलते ही हंगामा, लगे पायलट जिंदाबाद के नारे

गुर्जर आरक्षण आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला की अस्थियों का विसर्जन पुष्कर के 52 घाटों पर एक साथ होगा। इससे पहले पुष्कर के मेला मैदान में एमबीसी समाज (गुर्जर, रेबारी, रायका, देवासी, गडरिया, बंजारा, गदरी, गयारी, गडोलिया लुहार) की बैठक हो रही है। इसमें खेल राज्य मंत्री अशोक चंदना जैसे ही भाषण देने पहुंचे लोगों ने जूते व अन्य सामान फेंक कर हंगामा किया। वहीं दूसरी ओर सचिन पायलट जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। गहलोत गुट के मानें जाने वाले अशोक चांदना को जूते तो पायलट के जिंदाबाद के नारों से एक बात तो तय है की कांग्रेस की आंतरिक कलह अभी तक जारी है।

बैंसला के योगदान को किया याद
गुर्जर भवन में स्थापित कर्नल बैंसला की प्रतिमा का सोमवार को सबसे पहले अनावरण किया गया। विशाल मूर्ति को क्रेन की सहायता से लाया गया। इसके बाद सोमवार सुबह करीब 10 बजे बैठक शुरू हुई। इस दौरान कर्नल बैंसला के योगदान को याद किया गया। गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष विजय बैंसला व अन्य ने बैठक स्थल पर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान सभा स्थल पर पुष्पवर्षा की गई।

कैसे हुई शुरूआत

कार्यक्रम के शुरू होते ही सचिन पायलट जिंदाबाद के नारे शुरू हो गए थे। उद्योग मंत्री शकुंतला रावत जब भाषण देने पहुंची तो विरोध शुरू हो गया। उन्होंने कर्नल बैंसला के नाम से करौली में कॉलेज खोलने की घोषणा की। समर्थकों ने उन्हें भाषण देने नहीं दिया। पायलट जिंदाबाद के नारे लगाए। फिर भी रावत ने भाषण दिया। इसके बाद खेल राज्य मंत्री अशोक चंदना भाषण देने पहुंचे। समर्थकों को यह मंजूर नहीं था। उन्होंने जूते व अन्य सामान फेंक कर हंगामा किया। पायलट जिंदाबाद के नारे फिर से लगाने लगे। पुलिस व अन्य ने समर्थकों को शांत कराया। चंदना को भाषण बीच में ही छोड़ना पड़ा।

अपनी सुविधा के अनुसार सामाजिक कार्यक्रमों में आते हैं लोग- पूनिया
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कार्यक्रम में मौजूद और अनुपस्थित रहने वाले नेताओं पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि लोग अपनी सुविधा के अनुसार सामाजिक कार्यक्रमों में आते हैं।

25 दिनों में 75 विधानसभा क्षेत्रों से गुजरने के बाद राख शनिवार की रात तीर्थ नगरी पुष्कर पहुंची। अस्थि विसर्जन को लेकर एमबीसी सोसायटी की ओर से दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

Ajmer: अस्थि विसर्जन कार्यक्रम में नजर आई कलह, चांदना के बोलते ही हंगामा, लगे पायलट जिंदाबाद के नारे
Bharat Jodo Yatra : कांग्रेस ने ट्विटर पर शेयर की RSS की जलती ड्रेस, भाजपा बोली- आग लगाना इनका पुराना इतिहास
Since independence
hindi.sinceindependence.com