ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय में सजा मूट कोर्ट, देशभर की कॉलेजों ने लिया भाग

मूट कोर्ट जहां छात्रों को अदालती कार्यवाही में भाग लेने के लिए बनाया जाता है। यह पार्टियों के बीच एक काल्पनिक विवाद से संबंधित है। अधिकतर जहां छात्रों से वकील और जज के रूप में कानून के क्षेत्र में अपने करियर को आगे बढ़ाने की उम्मीद की जाती है
ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय में सजा मूट कोर्ट, देशभर की कॉलेजों ने लिया भाग
2 दिवसीय राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिताsince independece

ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय जयपुर में 7- 8 मई 2022 को 2 दिवसीय राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. राष्ट्रीय मूट कोर्ट 2022 के पहले दिन कार्यक्रम का उद्घाटन संयुक्त उद्यम मिथलेश गर्ग ने किया. मिथलेश गर्ग बार काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ अधिवक्ता राजस्थान उच्च न्यायालय जयपुर है साथ ही बीरी सिंह सिनसिनवार के साथ, पूर्व जिला न्यायाधीश, जयपुर राजस्थान उदय चंद बारुपाल, राष्ट्रीय मूट प्रतियोगिता के जूरी सदस्यों की मौजूदगी में कार्यक्रम में चार चांद लगे.

मूट कोर्ट बनाया जाता है अदालती कार्यवाही में भाग लेने के लिए
मूट कोर्ट जहां छात्रों को अदालती कार्यवाही में भाग लेने के लिए बनाया जाता है. यह पार्टियों के बीच एक काल्पनिक विवाद से संबंधित है. अधिकतर जहां छात्रों से वकील और जज के रूप में कानून के क्षेत्र में अपने करियर को आगे बढ़ाने की उम्मीद की जाती है. मूट कोर्ट के आयोजन का उद्धेश्य छात्रों को प्रशिक्षित करने के लिए किया जाता है.
since independence

मिथलेश गर्ग ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया था कार्यक्रम का शुभांरभ

विश्विद्यालय द्वारा मूट कोर्ट का आयोजन कार्यक्रम की शुरुआत रेखागोविल सभाघार में की गई. जहां विश्विद्यालय की चेयरपर्सन मिथलेश गर्ग ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया. विश्वविद्यालय की परंपरानुसार अनुसार वंदे मातरम गीत गाकर कार्यक्रम की शुरूवात की और विश्विद्यालय के सलाहकार और सीईओ जेवीएन वेदान्त गर्ग ने सभी प्रतिभागियों को संबोधित किया और उन्हें शुभकामनाएं दीं।

मूट कोर्ट प्रतियोगिता एक ऐसा अवसर है जहां कानूनी मुद्दों का विश्लेषण करने के अलावा, होने वाली बातचीत छात्रों को सहजता से सोचने और प्रतिक्रिया करने का अवसर प्रदान करती है. जिससे हर इच्छुक कानूनी व्यवसायी को सर्वोत्तम अभ्यास के लिए अपनाना चाहिए। इस तरह की प्रतियोगिता छात्रों के मनोबल को बढ़ाती है, और छात्रों को प्रतियोगिता के दौरान अपने तर्कों को आगे बढ़ाने और उनके अनुकरणीय मूटिंग कौशल को प्रस्तुत करने में आत्मविश्वास हासिल करने में मदद करती है
सीईओ जेवीएन वेदान्त गर्ग

विश्विद्यालय में आए सभी गणमान्य अथितियो का मिथलेश गर्ग ने पुष्प देकर स्वागत किया. कार्यक्रम के मुख्य अथिति बीरी सिंह सिनसिनवार, सीनियर एडवोकेट राजस्थान हाई कोर्ट मोजूद रहे. उन्होंने मूट कोर्ट की महत्वता बताकर ओर कानून से सम्बन्धित जरूरी जानकारी छात्र छात्राओं से साझा की.

8 मई 2022 को सेमीफाइनल टीम का सेशन

फेकल्टी ऑफ लॉ एंड गवर्नेस की डॉयरेक्टर डॉ बीना दीवान ने सभी पार्टिसिपेट का परिचय दिया. मूट कोर्ट विश्वविद्यालय में देश भर से विभिन्न शहरों से अलग-अलग कॉलेज के छात्रों ने भाग लिया. आयोजित किए का जिसमे 11 टीमों ने हिस्सा लिया जिसमे छात्राओं द्वारा वाद विवाद पेश किया गया. जिसमें 4 टीमों ने सेमीफाइनल प्रवेश किया. फाइनल में मूट कोर्ट में ज्योति विद्यापीठ महिला विश्वविद्यालय विजेता रही और लॉयड यूनिवर्सिटी नोएडा उप-विजेता रही.

विश्वविदालय परिसर में मूट कोर्ट आयोजन का उद्देश्य छात्रों को अदालती कार्यवाही की हर एक कार्य के बारे में प्रशिक्षण देना हैं.

2 दिवसीय राष्ट्रीय मूट कोर्ट प्रतियोगिता
जयपुर में मकान में लगी आग, 4 युवक फंसे,एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर पाया काबू,युवकों को निकाला सुरक्षित बाहर

Related Stories

No stories found.