राजस्थान: हनुमानगढ़ में गौहत्या को लेकर आंदोलन भड़का, पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोड़े, दो तहसीलों में कर्फ्यू

राजस्थान के हनुमानगढ़ के गांधीबाड़ी और चिड़ियागांधी में गौहत्या को लेकर चार दिन से चल रहा था आंदोलन । लोग आक्रोशित हुए तो पुलिस को छोड़ने पड़े आंसूगैस के गोले, ईद पर गोकशी का मामला आया था सामने
राजस्थान: हनुमानगढ़ में गौहत्या को लेकर आंदोलन भड़का, पुलिस ने आंसूगैस के गोले छोड़े,  दो तहसीलों में कर्फ्यू

राजस्थान के हनुमानगढ़ के गांधीबाड़ी और चिड़ियागांधी के गांवों में गोहत्या को लेकर लोग चार दिन से धरने पर बैठे थे । बुधवार को पुलिस ने धरना हटाने का प्रयास किया तो माहौल तनावपूर्ण हो गया। पुलिस पर पथराव किया गया। जिसके बाद जिला कलेक्टर ने ग्राम गांधीबाड़ी और चिड़ियागांधी पंचायत क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया है ।

कई प्रदर्शनकारियों को किया गया गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार शाम को पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को धरना स्थल से हटा दिया था । साथ ही कई प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार भी कर लिया गया था । जिसके बाद बुधवार को एक बार फिर ग्रामीण एकत्र हो गए और जयश्री राम के जयकारे लगाने लगे। प्रदर्शन में बड़ी संख्या में महिलाओं ने भाग लिया।

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प

पुलिस जब प्रदर्शनकारियों को हटाने गई तो प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद पथराव भी किया गया। पथराव में भिरानी एसएचओ ओम प्रकाश सुथार के सिर में चोट आई। वहीं, एएसपी सुरेश जांगिड़ और भादरा थाना प्रभारी रणवीर साई समेत कई अन्य पुलिसकर्मी घायल हो गए ।

समाज में सामजिक सौहार्द बना रहना चाहिए । ताकि साथ मिलकर देश को आगे बढाया जा सके, साथ ही गौकशी की घटना को अंजाम देने वाले लोगों के खिलाफ सरकार को सख्त एक्शन लेने की जरूरत है । साथ ही हनुमानगढ़ के लोगों को पुलिस और प्रशासन को शांति व्यवस्था को बनाने में अपना योगदान देने की जरुरत है । ताकि हमारे हनुमानगढ़ में शांति बनी रहे ।

महेद्र कुमार शर्मा, छात्र नेता, हनुमानगंढ

पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले

भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और बल प्रयोग किया । इलाके में बढ़ते तनाव के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया है। क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। मंगलवार को वार्ता विफल होने के बाद क्षेत्र में इंटरनेट को बंद कर दिया है ।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com