आखिर क्यों बोले अमित शाह, लोकतंत्र राहुल की दादी ने किया खत्म
आखिर क्यों बोले अमित शाह, लोकतंत्र राहुल की दादी ने किया खत्म

आखिर क्यों बोले अमित शाह, लोकतंत्र राहुल की दादी ने किया खत्म

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राजस्थान के दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन जोधपुर में चुनावी शंखनाद किया।शाह ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में लोकतंत्र को तो आपकी दादी ने खत्म किया था।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राजस्थान के दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन जोधपुर में चुनावी शंखनाद किया।

शाह ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि देश में लोकतंत्र को तो आपकी दादी ने खत्म किया था।

इमरजेंसी लगाकर लोगों को जेल में डाला, राजनीतिक दलों पर पाबंदिया लगाई, आप कौन से लोकतंत्र को बचाने की बात कर रहे हो।

इस बैठक में शाह ने यह भी कहा की कांग्रेस और घमंडिया गठबंधन के लोग कह रहे थे कि देश में लोकतंत्र को बचाओ। मैं कहता हूं क्या हो गया हमारे लोकतंत्र को?

देश की जनता लोकतंत्र के तहत ही मतदान करने जा रही है। विपक्ष के लोग ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि इनके नेता जेल में है।

12 लाख करोड़ के घोटाले करेंगे तो जेल मैं जायेंगे या नहीं ? लेकिन जो लोग भ्रष्टाचार करेंगे , उन्हें जेल तो जाना होगा।

शाह ने दिल्ली मैं हुई 'लोकतंत्र बचाओ ' रैली को लेकर आईएनडीआईए पर पलटवार करते हुए कहा ''चाहे आप कितनी भी पार्टियों को एकजुट कर ले , चुनाव के बाद प्रधानमंत्री के रूप में केवल मोदी ही आने वाले है।

मोदी के तीसरी बार प्रधानमंत्री बनने से भारत तीसरे नंबर का अर्थतंत्र बन जाएगा। उन्होंने कहा कि पूर्व पीएम जवाहर लाल नेहरू ने एक गलती कि थी।

वो जम्मू-कश्मीर में 370 लगा गए थे ,जिससे कश्मीर भारत का हिस्सा ना बनपाए। मोदी ने 370 समाप्त कर के वह तिरंगा लहरा।

जोधपुर संभाग कि कोर कमेटी बैठक में शाह ने कहा की जो लोग डरकर या भाग - भागकर भाजपा में शामिल हो रहे है ,उन्हें कुछ नहीं मिलेगा।

बड़ा दिल रखते हुए सबको गले लगाना है ,साथ काम करना है लेकिन हमारी प्रथमिकता पहले हमारे कार्यकर्ता है।

दूसरी पार्टी से आने वाले नहीं।भाजपा एक परिवार की पार्टी नहीं है। यहां कार्यकर्ता ही पार्टी का मालिक है। चुनाव नेताओं के नहीं बूथ अध्यक्ष के दम पर जीते जाते है।

आखिर क्यों बोले अमित शाह, लोकतंत्र राहुल की दादी ने किया खत्म
राम मंदिर की छाप में लुप्त हो रहे दूसरे मुद्दे, जानें क्या है पूरा मामला

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com