उत्तराखंड: बर्फबारी और खराब मौसम की वजह से लापता हो गए थे 17 पर्वतारोही, सर्च ऑपरेशन जारी

14 अक्टूबर को उत्तराखंड के हर्षिल से ट्रेकिंग शुरू की थी
उत्तराखंड: बर्फबारी और खराब मौसम की वजह से लापता हो गए थे 17 पर्वतारोही, सर्च ऑपरेशन जारी

डेस्क न्यूज. वायुसेना ने उत्तराखंड के लमखागा दर्रे पर 17,000 फीट की ऊंचाई पर एक बड़ा बचाव अभियान शुरू किया है। यहां 18 अक्टूबर को भारी बर्फबारी और खराब मौसम के कारण पर्यटक, कुली और गाइड समेत 17 ट्रेकर्स रास्ता भटक गए थे। इनमें से 11 लोगों के शव लमखागा दर्रे के रास्ते में मिले थे।

प्रतिकात्मक फोटो
प्रतिकात्मक फोटो

14 अक्टूबर को उत्तराखंड के हर्षिल से ट्रेकिंग शुरू की थी

पर्वतारोहियों ने 14 अक्टूबर को उत्तराखंड के हर्षिल से ट्रेकिंग शुरू की थी। उन्हें हिमाचल प्रदेश के चितकुल पहुंचना था, लेकिन 17 से 19 अक्टूबर तक खराब मौसम के कारण वे लमखागा दर्रे के पास गुम हो गए और लापता हो गए। लमखागा दर्रा उत्तराखंड में हर्षिल और हिमाचल प्रदेश के किन्नौर को जोड़ने वाले सबसे कठिन दर्रों में से एक है।

खराब मौसम के बीच भी वायुसेना का बचाव अभियान जारी

वायुसेना ने बुधवार को तलाशी अभियान के लिए दो हेलीकॉप्टर तैनात किए। अगले दिन गुरुवार को बचाव दल को 15,700 फीट की ऊंचाई पर 4 शव मिले। 16,800 फीट की ऊंचाई पर एक जिंदा शख्स को रेस्क्यू किया. उसकी हालत बहुत खराब थी और वह हिल भी नहीं पा रहा था। 22 अक्टूबर की सुबह भी, चालक दल के सदस्य खराब मौसम और तेज हवा के बावजूद एक व्यक्ति को बचाने और 16,500 फीट की ऊंचाई से 5 शवों को वापस लाने में कामयाब रहे। एक संयुक्त गश्ती दल ने दो और शवों का पता लगाया है।

टीम हर्षिलो से चितकुल के लिए रवाना हुई थी

यह टीम मोरी सांकरी की ट्रैकिंग एजेंसी के जरिए हर्षिल से चितकुल के लिए रवाना हुई। इस टीम ने उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के वन विभाग से 13 से 21 अक्टूबर तक लमखागा दर्रे पर ट्रेकिंग के लिए इनरलाइन परमिट लिया था, लेकिन 17 से 19 अक्टूबर के बीच खराब मौसम के कारण टीम भटक गई।

उत्तराखंड और हिमाचल सरकार से संपर्क किया

ट्रेकिंग टीम से संपर्क टूटने और 19 अक्टूबर को चितकुल नहीं पहुंचने के बाद ट्रेकिंग

टूर एजेंसी ने बचाव प्रयास शुरू किया और उत्तराखंड और हिमाचल सरकार से संपर्क किया।

इसके बाद इस टीम की तलाश शुरू की गई। इस टीम के लापता होने की सूचना किन्नौर जिला

प्रशासन को बुधवार को ही मिली थी. इसके बाद जिला प्रशासन ने क्यूआरटी की टीम, पुलिस

और वन विभाग की टीम को बचाव के लिए चितकुल कांडे की ओर भेजा. किन्नौर के डीसी

आबिद हुसैन सादिक ने बताया कि लापता टीम के कुछ सदस्य मिल गए हैं. बाकी की तलाश

की जा रही है। बचाए गए दो लोगों में से केवल एक की हालत नाजुक बताई जा रही है।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com