CM Ashok Ghelot को मिले स्मृति चिन्ह एवं उपहारों की नीलामी राशि 2 करोड़ रूपए हुई एकत्रित,जाने क्या करेंगे ?

मुझे स्मृति चिंह एवं उपहारों के जरिये प्रदेशवासियों ने जो सम्मान दिया है, वह प्रदेशवासियों के सहायतार्थ ही काम आएगा।
CM Ashok Ghelot को मिले स्मृति चिन्ह एवं उपहारों की नीलामी राशि 2 करोड़ रूपए हुई एकत्रित,जाने क्या करेंगे ?
उन्होंने नीलामी में शामिल हुए सभी सहयोगकर्ताओं को धन्यवाद ज्ञापित किया।

राजस्थान के मुख़्यमंत्री अशोक गहलोत को मिले स्मृति चिन्ह एवं उपहारों की नीलामी का कार्यक्रम ‘सेवांजलि‘ गुरूवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित किया गया। भारत सेवा संस्थान की ओर से हुए इस कार्यक्रम में लगभग 2 करोड़ रूपए की राशि एकत्रित हुई। यह राशि ‘निरोगी राजस्थान‘ के लिए ‘मुख्यमंत्री सहायता कोष‘ में जमा होगी। गौरतलब है की मुख़्यमंत्री गहलोत के जन्मदिन पर यह निर्णय लिया गया था।

गहलोत ने इस कार्यक्रम में अपनी धर्मपत्नी सुनीता गहलोत के साथ स्मृति चिन्ह एवं उपहारों का अवलोकन किया। उन्होंने नीलामी में शामिल हुए सभी सहयोगकर्ताओं को धन्यवाद ज्ञापित किया।

 उल्लेखनीय है कि स्मृति चिंह एवं उपहारों की ऑनलाइन नीलामी भी की गई थी।
उल्लेखनीय है कि स्मृति चिंह एवं उपहारों की ऑनलाइन नीलामी भी की गई थी।

नीलामी से एकत्रित राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराकर ‘निरोगी राजस्थान‘ बनाएंगे

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि राजस्थान वर्षों से आपदा की घड़ी में सहयोग करने की महान परंपरा निभाता आ रहा है। कारगिल युद्ध, सुनामी, भूकंप, केरल में बाढ़ जैसी आपदाओं के दौरान पीड़ित लोगों की मदद के लिए प्रदेशवासियों ने उदार मन से सहयोग किया। ऐसे सहयोग पर हम सभी को गर्व है। मुझे स्मृति चिंह एवं उपहारों के जरिये प्रदेशवासियों ने जो सम्मान दिया है, वह प्रदेशवासियों के सहायतार्थ ही काम आएगा।

भारत सेवा संस्थान के उपाध्यक्ष एवं राजस्थान लघु उद्योग विकास निगम के अध्यक्राजीव अरोड़ा ने कहा कि राजस्थानियों ने आपदा के समय हमेशा सहयोग के लिए हाथ बढ़ाया है। स्मृति चिंहों की नीलामी से एकत्रित राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराकर ‘निरोगी राजस्थान‘ बनाएंगे। उल्लेखनीय है कि स्मृति चिंह एवं उपहारों की ऑनलाइन नीलामी भी की गई थी।

उन्होंने नीलामी में शामिल हुए सभी सहयोगकर्ताओं को धन्यवाद ज्ञापित किया।
CM Ashok Gehlot का बड़ा ऐलान, नहीं होगी RAS मेन्स परीक्षा स्थगित, अभ्यर्थियों की मांग के बाद भी नहीं बदला फैसला

Related Stories

No stories found.