बीजेपी को चुनाव में जिन - सीटों पर हार मिली है अब उन सीटों पर हो रहा है मंथन ताकि आने वाले विधानसभा चुनाव में नुकसान ना उठाना पड़े

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , गृह मंत्री अमित शाह , पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष लगातार सरकार गठन और मुख्यमंत्री के चयन के लिए बैठक कर रहे हैं
बीजेपी को चुनाव में जिन - सीटों पर हार मिली है अब उन सीटों पर हो रहा है मंथन ताकि आने वाले विधानसभा चुनाव में नुकसान ना उठाना पड़े

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष लगातार सरकार गठन और मुख्यमंत्री के चयन के लिए बैठक कर रहे हैं।

भारत में बीजेपी की कड़ी जीत के बाद अब मंथन का दौर जारी है। बीजेपी पार्टी के नेता अब आगे की रणनीति पर भी पेनी नजर बनाये हुए है। राजस्थान में भी विधान सभा चुनाव नजदीक है जिसकी मंत्रणा शुरू हो गयी है। वही राज्यों की राजधानी से लेकर देश की राजधानी दिल्ली तक बैठकों का दौरा जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , गृह मंत्री अमित शाह , पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष लगातार सरकार गठन और मुख्यमंत्री के चयन के लिए बैठक कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश , उत्तराखंड , गोवा और मणिपुर , इन चारों राज्यों के कार्यवाहक मुख्यमंत्री अपने-अपने राज्यों के प्रदेश अध्यक्ष और प्रदेश संगठन महासचिव के साथ दिल्ली का दौरा कर रहे हैं। निश्चित तौर पर ये जीत, पार्टी के लिए एक बड़ी जीत है लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि एक तरफ जहां भाजपा इस जीत का जश्न मना रही हैं, वहीं इसके साथ ही हार की समीक्षा भी कर रही है। हार की यह समीक्षा , उन चारों राज्यों में भी हो रही है जहां भाजपा को बंपर जीत हासिल हुई है और अगले कुछ दिनों में जहां भाजपा की सरकार शपथ लेने जा रही है।

<div class="paragraphs"><p>भाजपा को 57 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जो भारी बहुमत मिलने के बावजूद इस बार घटकर 47 रह गया है</p></div>

भाजपा को 57 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जो भारी बहुमत मिलने के बावजूद इस बार घटकर 47 रह गया है

भाजपा को 57 सीटों पर जीत हासिल हुई थी

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने आईएएनएस को बताया कि चुनाव परिणामों की समीक्षा करना हमेशा से भाजपा की स्वाभाविक रणनीति रही है । हालांकि इसके साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा कि 2024 के लोक सभा चुनाव में अब बहुत ज्यादा वक्त नहीं रह गया है और इसलिए इस बार चुनावी नतीजों की समीक्षा लोक सभा चुनाव की रणनीति को ध्यान में रखते हुए की जा रही है ताकि पार्टी चुनावी तैयारियों में सबसे आगे रहे।

लोकसभा में सबसे ज्यादा 80 सांसद भेजने वाले उत्तर प्रदेश में भाजपा दोबारा से सरकार बनाने जा रही है। सही मायनों में देखा जाए तो भाजपा की यह ऐतिहासिक उपलब्धि मानी जा रही है लेकिन भाजपा आलाकमान हमेशा भविष्य के कई सालों को ध्यान में रख कर कार्य करता है इसलिए उत्तर प्रदेश सहित तमाम राज्यों के चुनावी परिणामों को भी भाजपा एक सीख और सबक के तौर पर ही ले रही है।

भाजपा 2017 के 3 सीटों की तुलना में इस बार महज 2 सीटों पर ही चुनाव जीत पाई।

उत्तर प्रदेश में भले ही सहयोगी दलों के साथ मिलकर भाजपा ने 273 सीटें हासिल की हो लेकिन 2017 की 325 सीटों की तुलना में इस बार भाजपा को 52 सीटों का नुकसान हुआ है। उत्तराखंड में 2017 में भाजपा को 57 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जो भारी बहुमत मिलने के बावजूद इस बार घटकर 47 रह गया है।

गोवा और मणिपुर में 2017 के मुकाबले इस बार भाजपा की सीटें बढ़ी है लेकिन इस बड़ी कामयाबी के बावजूद भाजपा ने जो लक्ष्य निर्धारित कर रखा था उसे वो हासिल नहीं कर पाई। सबसे अधिक निराशाजनक प्रदर्शन तो पंजाब का रहा जहां पहली बार बड़े भाई की भूमिका में चुनाव लड़ने और पूरी ताकत झोंकने के बावजूद भाजपा 2017 के 3 सीटों की तुलना में इस बार महज 2 सीटों पर ही चुनाव जीत पाई।

<div class="paragraphs"><p>पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव बीएल संतोष लगातार सरकार गठन और मुख्यमंत्री के चयन के लिए बैठक कर रहे हैं।</p></div>
CM Ashok Gehlot का बड़ा ऐलान, नहीं होगी RAS मेन्स परीक्षा स्थगित, अभ्यर्थियों की मांग के बाद भी नहीं बदला फैसला

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com