वसुंधरा राजे की देव दर्शन यात्रा के बाद BJP में बढ़ी हलचल, गुटबाजी थामने पार्टी ने उठाया बड़ा कदम

राजे पर आरोप स्टार प्रचारक होने के बावजूद वह दोनों सीटों पर प्रचार करने नहीं गईं
वसुंधरा राजे की देव दर्शन यात्रा के बाद BJP में बढ़ी हलचल, गुटबाजी थामने पार्टी ने उठाया बड़ा कदम

डेस्क न्यूज. राजस्थान की राजधानी जयपुर में 5 दिसंबर को राज्य कार्यसमिति के विशेष सत्र में अमित शाह अनुशासन का पाठ पढ़ाएंगे. शाह के दौरे का मकसद राजस्थान में पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को स्पष्ट संदेश देना है कि पार्टी सर्वेयर है नेता नहीं. जयपुर के बिरला ऑडिटोरियम में होने वाले इस कार्यक्रम में भाजपा के सभी निर्वाचित जनप्रतिनिधि शामिल होंगे. यानी पंचायत निकायों के निर्वाचित प्रतिनिधियों से लेकर विधायक, सांसद, पार्टी के पदाधिकारी के साथ पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी मौजूद रहेंगे. अमित शाह का एक साथ और सभी को स्पष्ट संदेश, वह भी ऐसे समय में जब कैबिनेट फेरबदल के बाद कांग्रेस गहलोत-पायलट को उलझाकर एकजुटता का संदेश दे रही है.

वसुंधरा राजे ने बयान जारी कर साफ कर दिया था कि यात्रा राजनीतिक नहीं

दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के मेवाड़ से मारवाड़ जाकर देव दर्शन और पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं के निधन पर शोक जताने का असली मकसद अपनी जमीनी ताकतों को मजबूत करना है. यह संदेश पार्टी नेतृत्व को भी देना है कि वे जनता और कार्यकर्ताओं की पहली पसंद हैं। हालांकि वसुंधरा राजे ने बयान जारी कर साफ कर दिया था कि यात्रा राजनीतिक नहीं है, लेकिन असली तस्वीर भीड़ और यात्रा के कार्यक्रमों के आयोजन के तरीके में साफ दिखाई दे रही थी.

वसुंधरा राजे के दौरे पर बीजेपी पार्टी का मौन

वसुंधरा राजे के इस दौरे पर प्रदेश भाजपा नेताओं ने चुप्पी साध रखी है,

लेकिन माना जा रहा है कि अमित शाह लक्ष्मण रेखा को याद दिलाकर जाएंगे.

दरअसल इसी महीने राजस्थान में हुए दो विधानसभा उपचुनावों के नतीजे बीजेपी

के लिए बेहद निराशाजनक रहे. भाजपा ढियावड़ में तीसरे और वल्लानगर में चौथे स्थान पर है।

इन नतीजों के बाद से प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया,

उपनेता राजेंद्र राठौड़ वसुंधरा राजे के समर्थकों के निशाने पर हैं और 2023 के चुनाव के

लिए राजे को सीएम चेहरा बनाने की मांग कर रहे हैं. लेकिन वसुंधरा राजे पर भी सवाल उठे।

राजे पर आरोप स्टार प्रचारक होने के बावजूद वह दोनों सीटों पर प्रचार करने नहीं गईं

राजे स्टार प्रचारक होने के बावजूद वह दोनों सीटों पर प्रचार करने नहीं गईं। इस दौरान राजे जोधपुर गई हुई थीं। पूर्व मंत्री महिपाल मदेरणा के निधन पर शोक मनाकर लौटते समय ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के साथ सेल्फी लेना चर्चा का विषय रहा. पिछले पांच उपचुनावों में भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेताओं पर पार्टी के घोषित उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार नहीं करने का आरोप लगा जबकि उनके समर्थकों को टिकट नहीं मिल रहा था. भावी मुख्यमंत्री के चेहरे के लिए पार्टी के कई नेताओं के बीच बढ़ती प्रतिस्पर्धा भी पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के लिए चिंता का विषय है।

पार्टी को एकता का संदेश देंगे अमिता शाह

अब अमित शाह के जरिए पार्टी राजस्थान के उन नेताओं को भी एकजुटता के साथ जमीनी स्तर पर काम करने का संदेश दे सकती है जो खुद को सीएम चेहरा मानते हैं. हालांकि बीजेपी के राष्ट्रीय नेतृत्व की प्राथमिकता राजस्थान नहीं है, लेकिन राजस्थान में पार्टी की बिगड़ती सेहत को ठीक करने के लिए अमित शाह मिशन यूपी के बीच में दवा का एक कड़वा घूंट देने आ रहे हैं, जिससे पार्टी बन जाएगी. राजस्थान में 2023 के लक्ष्य की ओर। हम एकजुट होकर आगे बढ़ सकते हैं। बीजेपी का राजस्थान में 2023 के लिए किसी को सीएम फेस घोषित करने का इरादा नहीं है। शाह अपने राजस्थान दौरे में यह संदेश भी दे सकते हैं कि बीजेपी राजस्थान में 2023 का चुनाव कैसे लड़ेगी.

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com