Weather Alert: राजस्थान के इन 16 जिलों में बारिश का अलर्ट, सर्दी बढ़ेगी

अलवर, टोंक, दौसा और आसपास के भरतपुर जिलों में बारिश की संभावना
Weather Alert: राजस्थान के इन 16 जिलों में बारिश का अलर्ट, सर्दी बढ़ेगी

डेस्क न्यूज. मानसून के रवाना होने से पहले राजस्थान में एक बार फिर बारिश की संभावना है. मौसम में बदलाव के कारण आज और कल राजस्थान में बारिश की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में नया लो प्रेशर सिस्टम बनने और सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के चलते राजस्थान के कई जिलों में मौसम ने करवट ली है. इससे 16 जिलों में तेज हवाओं के साथ बारिश हो सकती है। बारिश के कारण पारा 2 से 3 डिग्री तक गिर सकता है। इससे हल्की सर्दी हो सकती है। दीपावली के बाद सर्दी बढ़ेगी।

अलवर, टोंक, दौसा और आसपास के भरतपुर जिलों में बारिश की संभावना

मौसम विभाग के मुताबिक, मौसम में बदलाव के चलते राजधानी जयपुर समेत इस संभाग के अलवर, टोंक, दौसा और आसपास के भरतपुर जिलों में बारिश की संभावना है. इनके साथ ही भरतपुर संभाग के करौली और सवाई माधोपुर में बारिश की संभावना है.

इनके अलावा हाड़ौती संभाग के सीकर, झुंझुनू, कोटा, बूंदी और झालावाड़ और मेवाड़ क्षेत्र के चित्तौड़गढ़ और भीलवाड़ा में वर्षा की संभावना है. इन जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है।

दिन में गर्मी और रात में हल्की ठंड का अहसास

गौरतलब है कि इन दिनों मौसम में लगातार हो रहे बदलाव से दिन में गर्मी और रात में हल्की ठंड का अहसास हो रहा है. इस वजह से मौसमी बीमारियों ने भी डेरा डालना शुरू कर दिया है। अस्पतालों में सर्दी, जुकाम और वायरल के मरीजों की भीड़ लग रही है। डेंगू ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। शेखावाटी क्षेत्र के सीकर और चुरू में रातें सर्द होने लगी हैं। वहीं, जयपुर में भी लोग रात में तेज पंखा चलाने से परहेज करने लगे हैं। डॉक्टरों ने इस मौसम में सावधानी बरतने की सलाह दी है।

कोटा संभाग में बाढ़ आई तो पश्चिमी राजस्थान बारिश का इंतजार करते-करते सूख गई

उल्लेखनीय है कि राजस्थान में इस बार वर्षा पूरे राज्य में एक समान नहीं रही है।

कोटा संभाग में जहां बारिश ने अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए, जिससे बाढ़ की स्थिति बन गई.

जबकि पश्चिमी राजस्थान के जोधपुर समेत कई इलाकों में लोग वर्षा के लिए तरस गए।

इससे कोटा संभाग में अत्यधिक बारिश से फसल बर्बाद हो गई,

जबकि पश्चिमी राजस्थान में बारिश का इंतजार करते-करते सूख गई।

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com