मुंबई पुलिस का दावा, संजय राउत और एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर किए गए फोन टैप

शिवसेना नेता संजय राउत और राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर उनके फोन टेप किए गए थे।
मुंबई पुलिस का दावा, संजय राउत और एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर किए गए फोन टैप
मुंबई पुलिस ने बताया कि शिवसेना नेता संजय राउत और राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर उनके फोन टेप किए गए थे।image credit - google

महाराष्ट्र में नेताओं के फोन टैपिंग को लेकर लगातार बड़ी खबर सामने आ रही है। मुंबई पुलिस के सूत्रों के अनुसार शिवसेना नेता संजय राउत और राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर उनके फोन टेप किए गए थे।

संजय राउत और एकनाथ खडसे को बताया असामाजिक तत्व

महाराष्ट्र में राज्य खुफिया विभाग (SID) की पूर्व प्रमुख रश्मि शुक्ला के खिलाफ गैर-कानूनी तरीके से शिवसेना-एनसीपी के नेता संजय राउत और एकनाथ खडसे के फोन टैपिंग कराने को लेकर FIR दर्ज करवाई थी। यह FIR मुंबई के कुलाबा पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई गई।

बुधवार को मुंबई पुलिस ने इस मामले पर खुलासा करते हुए कहा कि असामाजिक तत्व के तौर पर शिवसेना और एनसीपी के नेता संजय राउत और एकनाथ खडसे के फोन टेप किए गए थे।

ACS होम ने दी फ़ोन टेपिंग की इजाज़त

दोनों नेताओं को एंटीसोशल बताने के बाद ACS होम ने पुलिस को फोन टेपिंग की इजाज़त दी थी। इजाज़त के बाद ही खडसे का फ़ोन 67 दिनों तक और राउत का फ़ोन 60 दिनो तक टेप किया गया था। इस मामले में मुंबई पुलिस ने दावा किया है कि शिवसेना नेता संजय राउत का फोन टैप एक बार हुआ, जो 60 दिन के लिए किया गया था। जबकि एनसीपी नेता एकनाथ खडसे का फोन दो बार टैपिंग पर रखा गया था। पहली बार 7 दिनों के लिए और दूसरी बार 60 दिनों के लिए फोन टैप किया गया था।

राजनीतिक पार्टी के लिए काम कर रही पुलिस – संजय राउत

मामले पर शिवसेना नेता संजय राउत ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा - जिसका फोन टैप किया गया है उसे असामाजिक तत्व बताया गया। इससे हमारी गोपनीयता भंग हो गई। जिस पुलिस से हम निष्पक्ष काम करने की उम्मीद करते हैं वो किसी राजनीतिक पार्टी के लिए काम कर रही हैं। उसको अब केंद्र सरकार सुरक्षा दे रही है। ये दुर्भाग्यपूर्ण है।

 मुंबई पुलिस ने बताया कि शिवसेना नेता संजय राउत और राष्ट्रवादी 
 कांग्रेस नेता एकनाथ खडसे को असामाजिक तत्व बताकर उनके फोन टेप किए गए थे।
जहांगीरपुरी में MCD सख्त, अवैध निर्माण ध्वस्त, लेकिन SC के आगे प्रशासन पस्त

Related Stories

No stories found.