सिस्टम को ठेंगा दिखाते दबंगः आजादी के 70 साल बाद भी जाती का दंश कायम- दलित IPS को घोड़ी चढ़ाने में पुलिस के छूटे पसीने

मामला जयपुर जिले के शाहपुरा क्षेत्र के गांव भगतपुरा जयसिंहपुरा का है जहां पर दलित आईपीएस अधिकारी सुनील कुमार धनवंता का बिंदौरा पुलिस की भारी सख्या के बीच निकाला गया।
सिस्टम को ठेंगा दिखाते दबंगः आजादी के 70 साल बाद भी जाती का दंश कायम- दलित IPS को घोड़ी चढ़ाने में पुलिस के छूटे पसीने

फोटो- न्यूज18 राजस्थान

जयपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसको देख कर लगता है कि हमारे समाज में आज भी रुढीवादी मानसिकता वाले लोगों की कमी नहीं है, समझ नहीं आता नए भारत का सपना आखिर पूरा कैसे होगा, जब तक समाज में छोटे बड़े का भेद-भाव हो? क्योंकि जब तक हम इन बातों से निकल कर समाज के विकास की तरफ ध्यान नहीं देगें, तब तक देश का विकास कैसे संभव है?

मामला जयपुर जिले के शाहपुरा क्षेत्र के गांव का

मामला जयपुर जिले के शाहपुरा क्षेत्र के गांव भगतपुरा जयसिंहपुरा का है जहां पर दलित आईपीएस अधिकारी सुनील कुमार धनवंता का बिंदौरा पुलिस की भारी सख्या के बीच निकाला गया। सूरजपुरा गांव में निकाला गया बिंदौरा जोकि एक पुलिस अफसर का था चर्चा का विषय बना हुआ है। दबंगों के डर से यहां के पुलिस-प्रशासन ने पूरे गांव को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया। ऐसे में बिन्दौरे में हर तरफ पुलिस का पहरा नजर आ रहा था। पूर्व में भी इस क्षेत्र में दलित दूल्हों की बिंदौरे के दौरान व्यवधान की घटनाएं हो चुकी हैं। इसलिए प्रशासन ने इस तरह के इंतजाम किए।

पुलिस ने एहतियात के तौर पर सुरक्षा के इंतजाम किए थे

हालांकि, आईपीएस दूल्हे का कहना है कि उसकी तरफ से पुलिस सुरक्षा नहीं मांगी गई थी। पुलिस ने एहतियात के तौर पर सुरक्षा के इंतजाम किए थे। मंगलवार को पुलिस सुरक्षा के बीच बिंदौरे को शांतिपूर्ण तरीके से निकाला गया। इसमें एडीएम व एसडीएम समेत कई अधिकारियों व भारी पुलिस बल की तैनाती के कारण गांव दिन भर छावनी बना रहा। शाम को कड़ी पुलिस सुरक्षा के बीच आईपीएस दूल्हे की बिंदौरा निकाला गया।

18 फरवरी को है शादी

आईपीएस सुनील कुमार धनवंत 18 फरवरी को शादी कर रहे हैं। मंगलवार को सूरजपुरा निवासी उसके परिवार वालों ने दूल्हे को बान का न्यौता दिया था। इस पर दूल्हा धूमधाम से घोड़ी पर बैठ गया और डीजे लेकर सूरजपुरा पहुंचा।

एसपी ने बताया जाब्ता सुरक्षा के लिए तैनात

जयपुर ग्रामीण पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल का कहना है कि दुल्हे के बिंदौरे के दौरान पुरानी घटनाओं को देखते हुए पुलिस ने ऐहतियात के तौर पर सूरजपुरा गांव में एक पुलिस अधिकारी को तैनात किया था। वहीं दूल्हे सुनील कुमार धनवंता का कहना है कि पुरानी घटनाओं को देखते हुए पुलिस ने अपने स्तर पर तैनात किया है। सुनील के मुताबिक वो ये शादी बिना दहेज के कर रहे हैं।

कुछ समय पहले दूल्हे पर पथराव को लेकर बवाल हुआ था

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों एक गांव में एक दलित युवक के विवाह समारोह में हुई घटना के बाद से इस क्षेत्र में पुलिस व प्रशासन अलर्ट मोड पर है। पिछली बार पास के पावटा इलाके में एक दलित दूल्हे पर पथराव किया गया था। इसके बाद पुलिस सतर्क हो गई। पुलिस और प्रशासन ने इस बार पहले ही यहां पुलिस बल तैनात कर दिया था ताकि ऐसी कोई घटना न हो।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

सिस्टम को ठेंगा दिखाते दबंगः आजादी के 70 साल बाद भी जाती का दंश कायम- दलित IPS को घोड़ी चढ़ाने में पुलिस के छूटे पसीने
Kushinagar Incident: आखिर क्या है शादी के दौरान मटकोड़वा की रस्म, कुशीनगर के गांव में इसी रस्म अदायगी की खुशी मातम में बदल गई
Since independence
hindi.sinceindependence.com