Lalitpur: रक्षक ही बने भक्षक- थाने में 13 साल की मासूम से पुलिसकर्मियों ने किया गैंगरेप, फरार थानेदार गिरफ्तार, UP सरकार पर विपक्ष का प्रहार

ललितपुर के पाली थाना क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता के साथ दुष्कर्म की घटना ने वर्दी को दागदार करने के साथ ही पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। अब तक पीड़िता की मौसी समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि निलंबित आरोपित थानेदार तिलकधारी सरोज फरार हो गया था। बाद में पुलिस ने प्रयागराज से गिरफ्तार कर लिया।
Lalitpur: रक्षक ही बने भक्षक- थाने में 13 साल की मासूम से पुलिसकर्मियों ने किया गैंगरेप, फरार थानेदार गिरफ्तार, UP सरकार पर विपक्ष का प्रहार

उत्तर प्रदेश के ललितपुर (Lalitpur) में गैंगरेप (Pali thana gangrape) की पीड़िता से थाने में रेप की घटना को लेकर सियासत भी गरमाने लगी है। इस मुद्दे को जोरदार तरीके से उठाते हुए विपक्ष योगी सरकार की घेराबंदी में जुट गया है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पीड़िता और उसके परिवार से मिलने के लिए रवाना हुए तो वहीं उनके चाचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने भी सरकार पर गंभीर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी कहा है कि 'बुलडोजर' के शोर में कानून-व्यवस्था के असल सुधारों को कैसे दबाया जा रहा थइि

ललितपुर के पाली थाना (Pali Thana) क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता के साथ दुष्कर्म की घटना ने वर्दी को दागदार करने के साथ ही पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। अब तक पीड़िता की मौसी समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जबकि निलंबित आरोपित थानेदार तिलकधारी सरोज फरार हो गया था। बाद में पुलिस ने प्रयागराज से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस को आरोपी एसएचओ के फोन की लोकेशन प्रयागराज में मिली थी।
इस बीच उत्तर प्रदेश में इस मुद्दे पर सियासत भी चरम पर है। बुधवार को पीड़िता से मिलने के लिए रवाना होने से पहले सपा राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि 'न्‍याय को ही लोगों के दरवाजे तक नहीं पहुंचना होता है…कभी-कभी न्याय की पुकार के लिए भी लोगों के दरवाजे तक जाना होता है।'

इंस्पेक्टर सस्पेंड‚ पूरे थाने को किया लाइन हाजिर

इससे पहले एडीजी कानपुर जोन ने पाली थाने के सभी पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया है। 6 एसआई, 6 हेड कॉन्स्टेबल, 10 आरक्षी, 5 महिला आरक्षी, एक ड्राइवर और एक फॉलोवर समेत 29 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर किए गए हैं। इसके साथ ही आरोपी इंस्पेक्टर सस्पेंड किया गया। डीआईजी ने रेंज झांसी से 24 घंटे में पूरे मामले पर रिपोर्ट मांगी गई है।
शिवपाल सिंह यादव ने भी इस मुद्दे पर सरकार को घेरा, उन्होंने ट्वीट में लिखा-'ललितपुर में एक 13 साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्‍कर्म और फिर शिकायत लेकर जाने पर थानेदार द्वारा दुष्‍कर्म की घटना पुलिस व्यवस्था की निष्ठुरता व नृशंसता की बानगी भर है। न जाने कितनी निरीह बेटियां ऐसी होंगी जिनके अपमान की करुण कथा नौकरशाही व पुलिस व्यवस्था की परिधि से बाहर ही न आ पाती होंगी।'
शिवपाल सिंह यादव ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा- 'निसंदेह उत्तर प्रदेश बेटियों के लिए इतना असुरक्षित और असंवेदनशील कभी नहीं था! प्रदेश सरकार को थानों में महिलाओं की तैनाती बढ़ाने और थानों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने के लिए गंभीरता से प्रयास करना होगा। साथ ही हमारी यह भी मांग है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।'
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने नाबालिग से दुष्कर्म को शर्मनाक बताते हुए कानून-व्‍यवस्‍था के मोर्चे पर योगी सरकार की घेराबंदी की है। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि ' ललितपुर में एक 13 साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्‍कर्म और फिर शिकायत लेकर जाने पर थानेदार द्वारा दुष्‍कर्म की घटना दिखाती है कि 'बुलडोजर' के शोर में कानून व्यवस्था के असल सुधारों को कैसे दबाया जा रहा है।'
Lalitpur: रक्षक ही बने भक्षक- थाने में 13 साल की मासूम से पुलिसकर्मियों ने किया गैंगरेप, फरार थानेदार गिरफ्तार, UP सरकार पर विपक्ष का प्रहार
उत्तराखंड को जिसने बताया NEPAL का हिस्सा, उस दोस्त की शादी में पहुंचे RAHUL GANDHI!
प्रियंका ने अपने ट्वीट में आगे मेंशन किया कि 'यदि महिलाओं के लिए थाने ही सुरक्षित नहीं होंगे तो वो शिकायत लेकर जाएंगी कहां?' उन्‍होंने सवाल उठाया कि 'क्या उत्तर प्रदेश सरकार ने थानों में महिलाओं की तैनाती बढ़ाने, थानों को महिलाओं के लिए सुरक्षित बनाने के लिए गंभीरता से सोचा है?'
प्रियंका गांधी वाड्रा ने यह भी याद दिलाया कि कांग्रेस पार्टी ने अपने महिला घोषणा पत्र में महिला सुरक्षा के लिए कई महत्वपूर्ण बिंदु रखे थे। प्रियंका ने लिखा 'आज ललितपुर है...ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए महिला सुरक्षा और महिला हितैषी कानून व्यवस्था के लिए गंभीर कदम उठाने ही होंगे।'

क्या था पूरा मामला

ललितपुर जिले के पाली थाना प्रभारी समेत छह लोगों पर 13 साल की नाबालिग बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म करने का आरोप है। मामले में चाइल्ड लाइन की शिकायत पर पुलिस अधीक्षक ने गंभीरता दिखाते हुए पाली थाना प्रभारी तिलकधारी सरोज समेत 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

गांव के ही चार लड़कों ने भोपाल ले जाकर गैंगरेप किया, फिर पाली थाने छोड़ फरार हुए, यहां थाने वाले भी भक्षक बन गए

पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक के अनुसार पाली थाना क्षेत्र के अंतर्गत रहने वाली 13 वर्षीय बच्ची को उसके ही गांव में रहने वाले चार लड़कों ने 22 अप्रैल को लालच देकर भोपाल लेकर चले गए थे। यहां उसके साथ तीन दिन तक सामूहिक दुष्कर्म किया गया। तीन दिन बाद चारों आरोपी नाबालिग लड़की को पाली थाने ले गए और थाना प्रभारी के हवाले कर फरार हो गए।

बयान लेने के बहाने थाने बुलाकर गैंगरेप किया

एसपी पाठके ने बताया कि थाना इंचार्ज पाली ने नाबालिग पीड़ित को उसकी मौसी के साथ चाइल्ड लाइन भेज दिया। दो दिन बाद उसे थाने में बुलाया गया। इस दौरान पाली थाना इंचार्ज ने बयान लेने के बहाने नाबालिग किशोरी को एक कमरे में ले जाकर बलात्कार की घिनौनी हरकत को अंजाम दिया।

एक आरोपी ​​गिरफ्तार

एसपी निखिल पाठक के अनुसार नाबालिग किशोरी को उसकी मौसी के साथ चाइल्ड लाइन भेज दिया गया, जहां बच्ची ने काउंसलिंग के दौरान अपने साथ हुई पूरी घटना को बयां किया। जिस पर चाइल्ड लाइन की शिकायत के बाद पाली थाना इंचार्ज समेत 6 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।
Since independence
hindi.sinceindependence.com