अमेरिका की चीन को चेतावनी ‘अगर ड्रैगन ने ताइवान पर हमला किया तो यूएस करेगा सैन्य कार्रवाई’

चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है, जबकि ताइवान खुद को एक स्वतंत्र देश के रूप में देखता है। चीन का लक्ष्य ताइवान को अपनी राजनीतिक मांगों के आगे झुकने और चीन के कब्जे को स्वीकार करने के लिए मजबूर करता रहा है
अमेरिका की चीन को चेतावनी ‘अगर ड्रैगन ने ताइवान पर हमला किया तो यूएस करेगा सैन्य कार्रवाई’

यूक्रेन युद्ध के बीच ताइवान को डराने-धमकाने की कोशिश कर रहे चीन को पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने खुली चेतावनी दी है। क्वाड मीटिंग में हिस्सा लेने जापान पहुंचे बाइडेन ने एक बैठक में कहा कि अगर चीन ने ताइवान पर हमला किया तो अमेरिका सैन्य कार्रवाई करेगा। उन्होंने कहा कि चीन ताइवान सीमा में घुसपैठ कर जोखिम उठा रहा है।

बाइडेन से सवाल- अगर चीन ताइवान पर कब्जा करने के लिए सत्ता का इस्तेमाल करता है तो क्या अमेरिका सैन्य हस्तक्षेप करेगा?

जवाब में जो बाइडेन- हमने यही वादा किया था। हम एक चीन की नीति पर सहमत हुए, हमने उस पर हस्ताक्षर किए, लेकिन यह सोचना गलत है कि ताइवान को बलपूर्वक छीना जा सकता है। जो बाइडेन ने कहा कि ताइवान के खिलाफ बल प्रयोग करने का चीन का कदम न केवल अनुचित होगा, बल्कि यह पूरे क्षेत्र को अस्थिर कर देगा।

ताइवान की रक्षा करने के लिए बाध्य अमेरिका
बाइडेन ने कहा कि यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद ताइवान की रक्षा की जिम्मेदारी बढ़ गई है। अगर चीन हमला करता है तो अमेरिका सैन्य मदद से ताइवान की रक्षा करेगा। दरअसल, ताइवान रिलेशंस एक्ट के तहत अमेरिका ताइवान की रक्षा करने के लिए बाध्य है। यही वजह है कि अमेरिका ताइवान को हथियारों की आपूर्ति करता है।

ताइवान पर कब्जा करने के लिए चीन कर सकता है युद्ध

चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है, जबकि ताइवान खुद को एक स्वतंत्र देश के रूप में देखता है। चीन का लक्ष्य ताइवान को अपनी राजनीतिक मांगों के आगे झुकने और चीन के कब्जे को स्वीकार करने के लिए मजबूर करता रहा है। रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद से यह आशंका बनी हुई है कि ताइवान पर कब्जा करने के लिए चीन भी युद्ध का रास्ता अपना सकता है।

यूक्रेन में युद्ध का फायदा उठा सकता है चीन
ताइवान पर हमला करने के लिए चीन यूक्रेन में युद्ध का फायदा उठा सकता है। शी जिनपिंग की इस साजिश को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भांप लिया था। कुछ महीने पहले, उन्होंने एक आपातकालीन बैठक की और इसके तुरंत बाद, अमेरिकी रक्षा विशेषज्ञों और विदेश मंत्रालय के एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल को ताइवान की राजधानी ताइपे भेजा गया। जिसके बाद भड़के चीन ने अमेरिका को धमकी दी थी। उन्होंने धमकी भरे लहजे में कहा था कि वे (अमेरिका) आग से खेल रहे हैं और उसमें खुद को जला लेंगे।

1949 में ताइवान और चीन हुए अलग

ताइवान में चीन की तरफ से घुसपैठ होती रहती है। आमतौर पर ये उड़ानें ताइवान के दक्षिण-पश्चिम हवाई क्षेत्र में होती हैं। इसे AIDZ कहा जाता है। 1949 में गृहयुद्ध के दौरान ताइवान और चीन अलग हो गए, लेकिन चीन इस द्वीप पर अपना दावा करना जारी रखे हुए है। नतीजतन, बीजिंग ताइवान सरकार की हर कार्रवाई का विरोध करता है। यह ताइवान को अलग-थलग करने और डराने के लिए कूटनीतिक और सैन्य बल का उपयोग करना जारी रखता है।

अमेरिका की चीन को चेतावनी ‘अगर ड्रैगन ने ताइवान पर हमला किया तो यूएस करेगा सैन्य कार्रवाई’
Tokyo में जापानी छात्रों ने की PM मोदी से हिंदी में बात! मोदी ने कहा...! देखें VIDEO

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com