भारत-मालदीव के बीच ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट लांच, भारत ने दी 100 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मो. सोलिह ने मंगलवार को मालदीव में ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स लांच किया। साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने मालदीव को 100 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता भी प्रदान की है। साइबर सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में हुए समझौते।
भारत-मालदीव के बीच ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट लांच, भारत ने दी 100 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह ने मालदीव में मंगलवार 2 अगस्त को ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स लॉन्च किया और साइबर सुरक्षा, आपदा प्रबंधन और पुलिस बुनियादी ढांचे जैसे क्षेत्रों में भी समझौते किए। ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स (Greater Mail Connectivity Project) भारत के 100 मिलियन अमरीकी डालर के अनुदान और 400 मिलियन अमरीकी डालर की लाइन ऑफ क्रेडिट के तहत बनाई जाएंगी। भारत ने मालदीव में विकास परियोजनाओं के लिए 100 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता भी प्रदान की।

छह दस्तावेजों का हुआ आदान-प्रदान

मीडिया को संबोधित करते हुए सोलिह ने कहा, मालदीव-भारत संबंध कूटनीति से परे है। यह यात्रा हमारे दोनों देशों के बीच घनिष्ठ संबंध की पुष्टि करती है। दोनों देशों ने साइबर सुरक्षा, आपदा प्रबंधन और पुलिस बुनियादी ढांचे के विकास जैसे क्षेत्रों पर छह दस्तावेजों का आदान-प्रदान किया। समझौतों के आदान-प्रदान में पीएम मोदी और मालदीव के राष्ट्रपति मौजूद रहे। मालदीव के राष्ट्रपति के साथ संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, हमने मालदीव को 100 मिलियन अमरीकी डालर की अतिरिक्त लाइन ऑफ क्रेडिट प्रदान करने का भी निर्णय लिया है ताकि सभी परियोजनाओं को समय पर पूरा किया जा सके।

मुंबई, महाराष्ट्र का भी दौरा करेंगे सोलिह

इससे पहले, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, हिंद महासागर की लहरों से बंधी एक साझेदारी, जो करीबी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संबंधों पर आधारित है। पीएम और मालदीव के राष्ट्रपति ने हमारे द्विपक्षीय में प्रगति की समीक्षा की। संबंधों और विशेष साझेदारी को और गहरा करने के तरीकों पर चर्चा की। गौरतलब है कि नई दिल्ली में आधिकारिक कार्यक्रमों के अलावा, राष्ट्रपति सोलिह दिल्ली में एक भारतीय व्यापार प्रतिनिधिमंडल के साथ भी चर्चा करेंगे। इस यात्रा के दौरान, राष्ट्रपति सोलिह मुंबई, महाराष्ट्र का भी दौरा करेंगे और व्यापारिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

भारत की नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी में मालदीव का विशेष स्थान

मालदीव हिंद महासागर क्षेत्र में भारत का प्रमुख पड़ोसी देश है और भारत की नेबरहुड फर्स्ट पॉलिसी में एक विशेष स्थान रखता है। भारत के लिए मालदीव हमेशा से एक करीबी और महत्वपूर्ण समुद्री पड़ोसी रहा है। महामारी से संबंधित व्यवधानों के बावजूद दोनों देशों के बीच बहुआयामी संबंध मजबूत हुए हैं। भारत की "पड़ोसी पहले" नीति और मालदीव की "भारत पहले" नीति साझा चिंताओं से निपटने और आपसी हितों को आगे बढ़ाने के लिए मिलकर काम करती है। राष्ट्रपति सोलिह ने पिछले दो वर्षों में देश के मामलों में भारत द्वारा निभाई गई सकारात्मक भूमिका पर प्रकाश डाला। एक राष्ट्रीय संबोधन में, सोलिह ने टीके देने सहित अपने देश को COVID-19 महामारी से निपटने में मदद करने के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया।

भारत-मालदीव के बीच ग्रेटर मेल कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट लांच, भारत ने दी 100 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता
Old Temple: सऊदी अरब के बाद इस देश में मिला 4500 साल पुराना मंदिर, यहां अब भी दफन हैं कई राज

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com