अलवर में निर्भया कांड UPDATE: 200 जगहों पर कैमरे, घर पहुंच जाते है चालान, लेकिन अपराधियों का 3 दिन बाद भी तीसरी आंख में कोई सुराग नहीं

शातिर बदमाशों पर अपनी पैनी नजर रखने के लिए 200 से ज्यादा जगहों पर 2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है। इसकी निगरानी के लिए अभय कमांड सेंटर, अलवर कंट्रोल रूम को डिजिटल तकनीक का उपयोग करके इसकी निगरानी के लिए बना दिया गया था।
अलवर में निर्भया कांड UPDATE: 200 जगहों पर कैमरे, घर पहुंच जाते है चालान, लेकिन अपराधियों का 3 दिन बाद भी तीसरी आंख में कोई सुराग नहीं

200 से ज्यादा जगहों पर 2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है अलवर में

डेस्क न्यूज. अलवर जिला पुलिस आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले शातिर बदमाशों पर अपनी पैनी नजर रखने के लिए 200 से ज्यादा जगहों पर 2-2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है। इसकी निगरानी के लिए अभय कमांड सेंटर, अलवर कंट्रोल रूम को डिजिटल तकनीक का उपयोग करके इसकी निगरानी के लिए बना दिया गया था।

<div class="paragraphs"><p>200 से ज्यादा जगहों पर 2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है अलवर में</p></div>

200 से ज्यादा जगहों पर 2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है अलवर में

अलवर शहर के मुख्य चौराहों पर पीटीजेड कैमरे

करीब 142 कैमरों को ऑनलाइन जोड़ रखा है। शहर में करीब 25 किलोमीटर हाई स्पीड इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ ऑप्टिकल फाइबर को भी बिछाया गया है। इसके साथ ही अलवर शहर के मुख्य चौराहों पर पीटीजेड कैमरे भी लगाए गए हैं, इन सब में तकनीकी की अहम भूमिका है।

आपके पास आए बिना भी आप पर सीधे नजर है पुलिस की

अब अगर आपने सीट बेल्ट नहीं लगाई है, या आप गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात कर रहे हैं और आप हेलमेट पहनना भूल गए हैं। अब पुलिस वाले आपके पास आए बिना भी आप पर सीधे नजर रख रहा है।

200 जगहों पर कैमरे, घर पहुंच जाते है चालान, लेकिन अपराधियों का 3 दिन बाद भी तीसरी आंख में कोई सुराग नहीं

अलवर शहर में 200 से ज्यादा जगह पर कैमरे लग हुए है क्या केवल और केवल चालान काटने के लिए लगा रखें है आखिर क्यों अपराधी कैमरे में कैद नहीं हुए है। क्या इनको जमीन खा गई या आसमां निखल गया? बिना एसआईटी की रिपोर्ट के अलवर पुलिस का बयान आना कई सवाल खड़े करता है।

Like Follow us on :- Twitter | Facebook | Instagram | YouTube

<div class="paragraphs"><p>200 से ज्यादा जगहों पर 2 सीसीटीवी कैमरे लगा रखे है अलवर में</p></div>
अलवर में निर्भया कांड UPDATE: "एसआईटी की रिपोर्ट आए बिना अलवर पुलिस का बयान, राज्य सरकार की मंशा और नाकामी पर सवाल उठाता है?"-सतिश पुनिया

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com