कर्नाटक सरकार ने रामदास पर लगा दिया 80 हजार का जुर्माना, इनकी खोजी शिला से अरुण योगीराज ने बनाई रामलला की मूर्ति : पत्नी के गहने रखने पड़े गिरवी

News: कांग्रेस की राम द्रोही मानसिकता का एक और नमूना, राम काज करने वालों को किया जा रहा प्रताड़ित रामलला की मूर्ति के लिए इस्तेमाल होने वाले पत्थर का खनन करने वाला ठेकेदार श्रीनिवास नटराज मुश्किल में फंसता नजर आ रहा है।
कर्नाटक सरकार ने रामदास पर लगा दिया 80 हजार का जुर्माना, इनकी खोजी शिला से अरुण योगीराज ने बनाई रामलला की मूर्ति : पत्नी के गहने रखने पड़े गिरवी
कर्नाटक सरकार ने रामदास पर लगा दिया 80 हजार का जुर्माना, इनकी खोजी शिला से अरुण योगीराज ने बनाई रामलला की मूर्ति : पत्नी के गहने रखने पड़े गिरवी

News: कांग्रेस की राम द्रोही मानसिकता का एक और नमूना, राम काज करने वालों को किया जा रहा प्रताड़ित रामलला की मूर्ति के लिए इस्तेमाल होने वाले पत्थर का खनन करने वाला ठेकेदार श्रीनिवास नटराज मुश्किल में फंसता नजर आ रहा है।

उस पर अवैध खनन के लिए 80 हजार ₹ का जुर्माना लगाया गया, दरअसल उस जगह पर एक दलित किसान रामदास से कृषि उद्देश्य के लिए चट्टान हटाने का ठेका मिला था।

अवैध खनन का आरोप लगा 80 हजार का लगाया जुर्माना

अयोध्या के भव्य राम मंदिर में भगवान रामलला की जिस मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा हुई है, वह अरुण योगीराज की बनाई है।

लेकिन इस मूर्ति को बनाने के लिए शिला खोजने वाले श्रीनिवास नटराज पर कांग्रेस शासित कर्नाटक में जुर्माना लगा दिया गया है।

उन पर 80 हजार रुपए का जुर्माना कर्नाटक के खान एवं भूविज्ञान ने लगाया है। जुर्माने का भुगतान करने के लिए नटराज को अपनी पत्नी के गहने तक गिरवी रखने पड़े हैं।

रिपोर्ट के अनुसार रामलला की मूर्ति तराशने के लिए इस्तेमाल की गई कृष्ण शिला को खोजने वाले ठेकेदार श्रीनिवास नटराज पर अवैध खनन का आरोप लगा 80 हजार का जुर्माना लगाया गया है।

हरोहल्ली-गुज्जेगौदानपुरा गांव निवासी श्रीनिवास नटराज एक स्थानीय खदान ठेकेदार हैं। उन्हें रामदास नाम के किसान ने अपनी कृषि भूमि से चट्टानों को साफ करने का ठेका दिया गया था। उन्होंने इस भूमि की एक विशाल चट्टान को तीन शिलाखंडों में बांटा था।

पत्नी के सोने के आभूषण को रखा गिरवी

रामलला की बनाने के लिए मैसूर के मूर्तिकार अरुण योगीराज ने इन शिलाखंडों में से ही एक को चुना था।

नटराज का कहना है कि इस शिलाखंड को सौंपने से पहले कुछ मुखबिरों ने विभाग को इसकी खबर दे दी और उन पर जुर्माना लगा दिया गया।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, नटराज को जुर्माने का भुगतान करने के लिए अपनी पत्नी के सोने के आभूषण गिरवी रखने पड़े।

नटराज का कहना है कि उन्होंने केवल चट्टानों को साफ किया और अगले खेत में चले गए। लेकिन खान और भूविज्ञान विभाग ने उन पर अवैध खनन का आरोप लगाकर जुर्माना लगा दिया।

नटराज को इस बात का भी अफसोस है कि, कोई भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आया। उन्होंने कहा, मैं इंतजार कर रहा हूं कि कोई मेरी भी मदद करेगा।

70 साल के दलित किसान रामदास के स्वामित्व वाली जमीन से निकले काला ग्रेनाइट पत्थर को रामलला की मूर्ति बनाने के लिए खरीदा गया था।

बता दें कि इसी किसान ने हाल ही में भगवान राम के मंदिर के निर्माण के लिए अपनी जमीन का एक हिस्सा दान करने का प्रतिज्ञा की थी।

रामलला की मूर्ति बनाने के लिए तीन मूर्तिकारों को किया था नियुक्त

रामदास के अनुसार वे अपनी 2.14 एकड़ जमीन को कृषि योग्य बनाने के लिए चट्टानों को साफ करना चाहते थे।

जब जमीन को समतल करने में वे नाकाम रहे तो उन्होंने नटराज को इसका ठेका दे दिया। इसके बाद मूर्तिकार अरुण योगीराज ने इन्हीं में से एक शिला मूर्ति बनाने के लिए चुनी।

नटराज के मुताबिक बाद में इसी जमीन से मिली चट्टानों के शिलाखंडों को भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न की मूर्ति को तराशने के लिए ले जाया गया।

अपनी जमीन पर राम मंदिर बनाने की प्रतिज्ञा के बारे में रामदास ने कहा, हमारे पास दक्षिण की तरफ एक अंजनेय मंदिर है, जिससे ऐसा लगता है कि अंजनेय की मूर्ति उस जगह को देख रही है, जहां से रामलला की मूर्ति के लिए पत्थर का खोदा गया था।

इसलिए, मैंने वहां भगवान राम को समर्पित एक मंदिर बनाने के लिए चार गुंटा (Guntas) जमीन दान करने का फैसला किया है। हम मंदिर के लिए भगवान राम की मूर्ति तराशने के लिए अरुण योगीराज से मिलेंगे।

गौरतलब है कि राम मंदिर ट्रस्ट ने पत्थर से रामलला की मूर्ति बनाने के लिए तीन मूर्तिकारों को नियुक्त किया था।

तीनों में से अरुण योगीराज की मूर्ति को ट्रस्ट ने राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित करने के लिए चुना था। 22 जनवरी 2024 पीएम नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर में इस मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की थी।

कर्नाटक सरकार ने रामदास पर लगा दिया 80 हजार का जुर्माना, इनकी खोजी शिला से अरुण योगीराज ने बनाई रामलला की मूर्ति : पत्नी के गहने रखने पड़े गिरवी
Ram Mandir Ayodhya Live: विपक्षी नेताओं से बोले आचार्य प्रमोद कृष्णम- राम के निमंत्रण को ठुकराने का मतलब भारतीय संस्कृति और सभ्यता का अपमान करना

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com