दिल्ली AIIMS डॉक्टरों का चमत्कार! 90 सेकेंड में गर्भ में ही भ्रूण की कर दी हार्ट सर्जरी
Pic Credit- Since Independence / Abhinav Singh

दिल्ली AIIMS डॉक्टरों का चमत्कार! 90 सेकेंड में गर्भ में ही भ्रूण की कर दी हार्ट सर्जरी

Delhi AIIMS: देश की राजधानी दिल्ली में AIIMS के डॉक्टरों ने एक चमत्कार कर दिखाया है। डॉक्टरों की टीम ने एक महिला के गर्भ में पल रहे भ्रूण की हार्ट सर्जरी मात्र 90 सेकेंड में कर लोगों को आश्चर्य में ड़ाल दिया है। क्या है पूरा मामला पढ़ें...

Delhi AIIMS: आज के समय में विज्ञान और प्रौद्योगिकी के माध्यम से क्या संभव नहीं है। यह बात एक बार फिर दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डॉक्टरों ने साबित कर दिखाई है।

देश की राजधानी दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में एक मां के गर्भ में पल रहे भ्रूण के अंगूर के आकार के दिल में सफल बैलून डाइलेशन किया गया है। जब डॉक्टरों ने माता-पिता को बच्चे की हृदय स्थिति के बारे में बताया, तो उन्होंने फैलाव के लिए सहमति व्यक्त की और वर्तमान गर्भावस्था को जारी रखने की इच्छा व्यक्त की।

डॉक्टरों ने बताया कि 28 वर्षीय गर्भवती महिला का इससे पहले तीन बार गर्भपात हो चुका था और जब उसे अपने गर्भ में पल रहे भ्रूण के दिल की खराब स्थिति के बारे में बताया गया तो वह बेहोश हो गई थी।

दिल्ली AIIMS डॉक्टरों का चमत्कार! 90 सेकेंड में गर्भ में ही भ्रूण की कर दी हार्ट सर्जरी
Maharashtra: '2026 तक भारत को बनाएं हिंदू राष्ट्र'; जानें टी. राजा सिंह के इस बयान के मायने

Delhi AIIMS: एम्स के प्रसूति एवं स्त्री रोग (भ्रूण चिकित्सा) विभाग के साथ-साथ कार्डियोलॉजी और कार्डियक एनेस्थीसिया विभाग ने दिल में सफल बैलून डाइलेशन की प्रक्रिया सफलतापूर्ण संपन्न की। डॉक्टरों की टीम के अनुसार, "प्रक्रिया के बाद भ्रूण और मां दोनों ठीक हैं। डॉक्टरों की टीम वृद्धि की निगरानी कर रही है।"

चिकित्सकों की टीम ने आगे कहा कि, "बच्चे के मां के गर्भ में होने पर भी कुछ प्रकार की गंभीर हृदय रोगों का निदान किया जा सकता है। कभी-कभी गर्भ में उनका इलाज करने से जन्म के बाद बच्चे के दृष्टिकोण में सुधार हो सकता है और सामान्य विकास हो सकता है।" इसी प्रक्रिया को बच्चे के दिल में एक बाधित वाल्व का बैलून डाइलेशन कहा जाता है।

इस सर्जरी को सफल करने वाले वरिष्ठ डॉक्टर ने बताया कि "प्रक्रिया अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत की जाती है। हमने मां के पेट के माध्यम से बच्चे के दिल में एक सुई डाली। फिर, एक गुब्बारे कैथेटर का उपयोग करके, हमने रक्त प्रवाह में सुधार के लिए बाधित वाल्व खोल दिया। हम आशा करते हैं और उम्मीद करते हैं कि बच्चे का दिल बेहतर विकसित होगा और हृदय रोग जन्म के समय कम गंभीर होगा।"

Delhi AIIMS: AIIMS में कार्डियोथोरेसिक साइंसेज सेंटर की टीम के वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा कि"इस तरह की प्रक्रिया बहुत चुनौतीपूर्ण होती है क्योंकि इससे भ्रूण के जीवन को भी जोखिम हो सकता है जो कि बहुत सटीक है। सब कुछ सभी अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत किया जाना है। आम तौर पर सभी प्रक्रियाएं हम एंजियोग्राफी के तहत करते है लेकिन ऐसा नहीं किया जा सकता है। सब कुछ अल्ट्रासाउंड मार्गदर्शन के तहत किया जाना है और फिर इसे बहुत जल्दी करना होगा।

क्योंकि आप प्रमुख हृदय कक्ष को पंचर करने जा रहे है इसलिए अगर कुछ गलत हो जाता है तो बच्चा मर जाएगा। यह बहुत जल्दी होना चाहिए।"

दिल्ली AIIMS डॉक्टरों का चमत्कार! 90 सेकेंड में गर्भ में ही भ्रूण की कर दी हार्ट सर्जरी
'गजवा-ए-हिन्द' के सपने को साकार कर रहा PFI, NIA की पहली चार्जशीट में साजिश का पर्दाफाश
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com