Manipur में पांच दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, पुलिसकर्मी को हटाने को लेकर शुरू हुआ था विवाद

मणिपुर सरकार ने एक पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई पर हिंसा भड़कने के बाद चुराचांदपुर जिले में पांच दिनों के लिए इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया। एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस अधीक्षक और उपायुक्त के दफ्तरों में तोड़फोड़ के बाद राज्य में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई थी।
Manipur में पांच दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, पुलिसकर्मी को हटाने को लेकर शुरू हुआ था विवाद
Manipur में पांच दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, पुलिसकर्मी को हटाने को लेकर शुरू हुआ था विवाद

मणिपुर सरकार ने एक पुलिसकर्मी के खिलाफ कार्रवाई पर हिंसा भड़कने के बाद चुराचांदपुर जिले में पांच दिनों के लिए इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया।

एक अधिकारी ने बताया कि पुलिस अधीक्षक और उपायुक्त के दफ्तरों में तोड़फोड़ के बाद राज्य में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई थी। सीएपीएफ जवानों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों पर भी भीड़ ने आग लगा दी थी।

अफवाहों की वजह से बंद हुआ इंटरनेट

हिंसा को लेकर जारी एक अधिसूचना में कहा गया, 'कुछ असामाजिक तत्व जनता को भड़काने के लिए सोशल मीडिया पर भड़काऊ तस्वीरें और पोस्ट शेयर कर रहे हैं।

इससे राज्य की कानून-व्यवस्था प्रभावित होगी। झूठी खबरों और अफवाहों के कारण निजी संपत्ति को नुकसान पहुंच सकता है और राज्य की शांति पर खतरा हो सकता है।'

जाने क्या हैं पूरा मामला

बता दें कि ये पूरा मामला एक पुलिस हेड कांस्टेबल को निलंबित करने की वजह से शुरू हुआ था। वहीं इस मामले में पुलिस को कहना है कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया था।

जिसमें एक पुलिस हेड कांस्टेबल सियामलाल पॉल कुछ हथियारबंद लोगों के साथ बैठा हुआ दिखाई दे रहा था। इसकी वजह से चुराचांदपुर एसपी शिवानंद सुर्वे ने तत्काल प्रभाव से कांस्टेबल को निलंबित करने का आदेश दे दिया।

आदेश के अनुसार, चुराचांदपुर जिला पुलिस सियामलालपॉल के खिलाफ विभागीय जांच करेगी। सियामलालपॉल को अनुमति के बिना स्टेशन न छोड़ने के लिए कहा गया है।

उनके वेतन और भत्ते को नियमों के अनुसार स्वीकार्य निर्वाह भत्ते तक सीमित कर दिया गया है। वीडियो 14 फरवरी का बताया जा रहा है, जो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।
झड़प को नियंत्रित करने और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों ने कई राउंड आंसू गैस के गोले दागे। स्थानीय लोगों का दावा है कि सुरक्षाबलों से झड़प के दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई औऱ लगभग 30 से ज्यादा लोग घायल हो गए है।

Manipur में पांच दिन के लिए इंटरनेट सेवाएं हुई बंद, पुलिसकर्मी को हटाने को लेकर शुरू हुआ था विवाद
पंजाब जेल से रिहाई के बाद रचित कौशिक बोले हमारे साथ श्री रघुनाथ तो किस बात की चिंता हमें

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com