सपा MLC पुष्पराज के लखनऊ, कन्नौज, कानपुर, नोएडा और हाथरस सहित 50 ठिकानों पर IT की छापेमारी

पुष्पराज के घर के बाहर पुलिस जाब्ता

सपा MLC पुष्पराज के लखनऊ, कन्नौज, कानपुर, नोएडा और हाथरस सहित 50 ठिकानों पर IT की छापेमारी

इत्र कारोबारियों की बड़े स्तर पर छापेमारी के बाद छाप के डर से लगभग 20 कारोबारियों ने अपने कार्यालय नहीं खोले, जानकारी के अनुसार पुष्पराज फिलहाल अपने घर में ही हैं। जिस घर पर टीम ने छापेमारी की है उस घर में उनका भाई अतुल जैन अपने परिवार के साथ रहता है।

ब्यूरो रिपोर्ट. यूपी के कन्नौज में पीयूष जैन के ठिकानों पर डीजीजीआई की बड़ी कार्रवाई के बाद अब शुक्रवार को एक और इत्र कारोबारी के घर पर आयकर विभाग ने छापेमारी की कार्रवाई की। ये व्यापारी और कोई नहीं सपा का एमएलसी पुष्पराज जैन पंपी है। कुछ ही दिनों पहले उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में 2022 के लिए 22 दुर्लभ फूलों से बना समाजवादी इत्र लॉन्च किया था।

बताया जा रहा है कि यूपी में एक साथ 50 जगहों पर इनकम टैक्स की छापेमारी की जा रही है। पुष्पराज के 7 ठिकाने हैं। लखनऊ, कन्नौज, कानपुर, नोएडा और हाथरस के ठिकानों पर तलाशी जारी है।

लखनऊ में भी कारोबारी के यहां छापेमारी हो चुकी है। कन्नौज के बाद इत्र कारोबारी मोहम्मद याकूब मलिक के भाई मोहसिन के घर आईटी पहुंची है। हजरतगंज स्थित मोहसिन की कोठी में तलाशी जारी है। वहीं, इत्र और गुटखा कारोबार से जुड़े अन्य व्यापारियों के यहां छापेमारी की हुई है।

पियूष जैन पर र्कारवाई पर पुष्पराज ने उन्हें बताया था बीजेपी समर्थक
पुष्पराज ने हफ्तेभर पहले ही कहा था कि पियूष जैन हमारे रिश्तेदार नहीं हैं और न ही उनसे कोई संबंध है। जैन ही हैं। हम और समाजवादी पार्टी को बदनाम किया जा रहा है। पुष्पराज ने कहा था कि पियूष जैन बीजेपी समर्थ क हैं।

रेड के डर से 20 कारोबारियों ने दफ्तर बंद रखे

इत्र कारोबारियों की बड़े स्तर पर छापेमारी के बाद छाप के डर से लगभग 20 कारोबारियों ने अपने कार्यालय नहीं खोले हैं। दरअसल कानपुर के एक्सप्रेस-वे में कन्नौज के कई परफ्यूम डीलर्स के कार्यालय हैं। इन्हीं में पम्पी जैन का ऑफिस भी है, यहां भी इनकम टैक्स की टीम पहुंची हुई है। ऐसे में आईटी टीम ताला तोड़कर तलाशी कर रही है। कानपुर में एक्सप्रेस-वे, नयागंज, घंटाघर और बिरहा रोड पर स्थित व्यवसायियों के कार्यालय डर के मारे आज बंद ही हैं।

इधर जानकारी के अनुसार पुष्पराज फिलहाल अपने घर में ही हैं। जिस घर पर टीम ने छापेमारी की है उस घर में उनका भाई अतुल जैन अपने परिवार के साथ रहता है। पुष्पराज का परिवार मुंबई में रहता है। पुष्पराज के कोई संतान नहीं है। वहीं कन्नौज में उनके दो घर हैं। पीयूष जैन का घर भी इसी छिपट्‌टी मोहल्ले में है और पुष्पराज के घर से महज 100 मीटर की दूरी पर ही है।

<div class="paragraphs"><p>कुछ ही दिनों पहले उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में 2022 के लिए 22 दुर्लभ फूलों से बना समाजवादी इत्र लॉन्च किया था।</p></div>

कुछ ही दिनों पहले उन्होंने सपा प्रमुख अखिलेश यादव की मौजूदगी में 2022 के लिए 22 दुर्लभ फूलों से बना समाजवादी इत्र लॉन्च किया था।

आज कन्नौज पहुंच अखिलेश ने सार्वजनिक प्रेस कॉन्फ्रेंस की यहीं अखिलेश और पुष्पराज की मुलाकात होने वाली थी
अखिलेश यादव ने आज कन्नौज पहुंचकर सार्वजनिक तौर पर प्रेस वार्ता की। यहीं अखिलेश और पुष्पराज की मुलाकात होने वाली थी। प्रेसवार्ता के दौरान अखिलेश यादव ने अपने करीबी दोस्तों के यहां छापेमारी को लेकर भाजपा को जमकर कोसा। उन्होंने कहा जिन पर कार्रवाई हुई और बड़ा खजाना मिला उनसे हमारी पार्टी का कोई संबंध नहीं है। लेकि अब आज जो कार्रवाई हो रही है। वो बदइरादे से की जा रही है, अखिलेश ने नारा दिया अब इत्र का इंकलाब होगा बाइस में बदलाव होगा।

सपा और भाजपा के बीच आरोप प्रत्यारोप की जंग

पीयूष जैन के यहां छापेमारी कर बीजेपी ने उन्हें एसपी का बताया तो एसपी ने बीजेपी से नाता जोड़कर बताया। छापेमारी के बीच पीएम मोदी 28 दिसंबर को कानपुर में थे। यहां उन्होंने सपा पर निशाना साधा। कहा- जिन लोगों ने यूपी में भ्रष्टाचार की खुशबू बिखेरी थी, वे आज सबके सामने हैं। अब वे क्रेडिट लेने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं। इस पर कुछ ही देर में अखिलेश का पलटवार हो गया। उन्नाव से अखिलेश यादव बोले- बीजेपी के असली निशाने पर पुष्पराज जैन थे। हमारे एमएलसी पुष्पराज जैन ने समाजवादी पार्टी के नाम से परफ्यूम बनाया था। बीजेपी ने पीयूष जैन के घर पर छापा मारा।

<div class="paragraphs"><p> </p></div>

सपा अध्यक्ष अखिलेश की मौजूदगी में जो समाजवादी इत्र लॉन्च किया गया था उसे पुष्पराज ने ही तैयार करवाया था। लॉन्चिंग के दौरान अखिलेश के बाईं ओर खड़े पुष्पराज।

पुष्पराज को अखिलेश का करीबी और सपा का बताया जा रहा फाइनेंसर

पुष्पराज को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव का करीबी और पार्टी का बड़ा फाइनेंसर बताया जाता है। पीयूष जैन की छापेमारी के बाद से पुष्पराज पर भी आयकर विभाग की नजर थी। इसके अलावा कन्नौज में एक अन्य इत्र कारोबारी मलिक मियां के परिसरों पर भी छापे की कार्रवाई की जा रही है। यूपी के नोएडा और अंबेडकर नगर में 30 से ज्यादा जगहों पर छापेमारी जारी है।

बता दें कि पिछली बार भी आईटी डिपार्टमेंट पुष्पराज के ही ठिकानों पर छापेमारी का प्रयास कर रहा था, लेकि गफलत में उसने पीयूष जैन के यहां छापे की कार्रवाई कर डाली और देश में साल 2021 की बड़ी रेड का खुलासा हुआ।

पुष्पराज जैन पंपी का भी नाम सामने आ रहा था
पीयूष के ठिकानों पर 23 दिसंबर को छापेमारी की गई थी। इसके बाद एसपी का इत्र बनाने वाले पुष्पराज जैन पंपी का भी नाम सामने आ रहा था। बताया जा रहा है कि 8 दिन बाद पुष्पराज जैन के घर छापेमारी में कुछ खास बरामद नहीं हुआ है।

पीयूष जैन पर कार्रवाई के दौरान पुष्पराज को शक था कि IT टीम उस तक भी पहुंच सकती है

पुष्पराज जैन के करीबी रिश्तेदारों ने बताया कि जिस दिन कानपुर में पीयूष जैन पर छापा मारा गया था। पुष्पराज जैन अगले ही दिन मुंबई के लिए रवाना हो गए थे। क्योंकि, उन्हें पूरा शक था कि आईटी टीम उनकी जगह भी पहुंच सकती है। बताया जा रहा है कि वह मुंबई में अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट से मिले और अपने एसेट्स को लेकर चर्चा की।

बताया जा रहा है कि उन्होंने अपने जरूरी कागजात और नकदी को सेटल भी कर लिया है। दावा किया जा रहा है कि पुष्पराज के घर पर ही इनकम टैक्स की टीम को छापेमारी करनी थी। लेकिन पी-कोडवर्ड की वजह से आयकर अधिकारियों ने गफलत की और टीम के शिकंजे में पीयूष जैन आ गया।

<div class="paragraphs"><p>पुष्पराज के घर के बाहर पुलिस जाब्ता</p></div>
Since Independence Ground Zero से LIVE: पहले मुर्गा फिर मुंडन अब रात 2 बजे हाड़ कंपाने वाली सर्दी में अर्धनग्न प्रदर्शन
<div class="paragraphs"><p>कार्रवाई के दौरान पुष्पराज के घर के बाहर भारी पुलिस जाब्ता रहा।</p></div>

कार्रवाई के दौरान पुष्पराज के घर के बाहर भारी पुलिस जाब्ता रहा।

पुष्पराज के पिता ने 1950 में कारोबार शुरू किया था, अब 12 देशों में ​व्यापार
पुष्पराज जैन 2016 में इटावा-फर्रुखाबाद से सपा की ओर से एमएलसी के तौर पर चुने गए थे। 12वीं तक कन्नौज के कॉलेज में ही पढ़े। वे प्रगति अरोमा ऑयल डिस्टिलर्स प्राइवेट लिमिटेड के को-ओनर हैं। उनके पिता सवैललाल जैन ने 1950 में इस व्यवसाय की शुरुआत की थी। इपका इत्र का बड़ा कारोबार 12 से अधिक देशों में फैला हुआ है। 2016 में उनके चुनावी हलफनामे के अनुसार, पुष्पराज और उनके परिवार के पास 37.15 करोड़ रुपये की चल संपत्ति और 10.10 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति है। ये भी बताया जा रहा है कि इनका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है।
<div class="paragraphs"><p>पुष्पराज के घर के बाहर पुलिस जाब्ता</p></div>
चुनावों में फर्जीवाड़ा रोकेगी cVIGIL ऐप! वोटर्स फोटो-वीडियो इस पर भेज कर पाएंगे शिकायत, ECI का दावा 100 मिनट में होगा एक्शन

Related Stories

No stories found.