आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?

लखनऊ में बने लुलु मॉल को लेकर विवाद बढता ही जा रहा है, मॉल में नवाज अदा करने का वीडियो वायरल होने के बाद अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि वहां सुन्दर कांड का पाठ किया जाएगा।
आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में दो हजार करोड़ रुपए की लागत से बने लुलु मॉल को लेकर विवाद बढ गया है। मॉल में नमाज पढ़ने का वीडियो 13 जुलाई को खूब वायरल हुआ। जिससे बाद से हड़कंप मचा हुआ है।

वीडियो वायरल होते ही प्रदेश के कई धार्मिक संगठनों ने इसका विरोध शुरू कर दिया। विरोध को देखते हुए मॉल प्रबंधन ने सुशांत गोल्फ सिटी थाने में धारा 153A, 295A, 341 समेत अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज करवाई। जिसमें कहा गया कि सार्वजनिक स्थानों पर पूजा-पाठ या नमाज अदा नहीं कर सकते, फिर भी मॉल में नमाज अदा की गई।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने चेतावनी पत्र जारी करते हुए कहा था कि अगर मॉल में दोबारा नमाज पढ़ी जाती है तो वे मॉल के अंदर सुंदर कांड का पाठ करेंगे।
अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने चेतावनी पत्र जारी करते हुए कहा था कि अगर मॉल में दोबारा नमाज पढ़ी जाती है तो वे मॉल के अंदर सुंदर कांड का पाठ करेंगे।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने चेतावनी पत्र जारी करते हुए कहा था कि अगर मॉल में दोबारा नमाज पढ़ी जाती है तो वे मॉल के अंदर सुंदर कांड का पाठ करेंगे। साथ ही हिन्दू महासभा के प्रवक्ता शिशिर चतुर्वेदी ने इसे लव जिहाद का नया अड्डा बताया। उन्होंने यह बी आरोप लगाया कि साजिशन 70% एक धर्म के लड़के और अन्य धर्म की लड़कियों की भर्ती की जा रही है।

पत्र के अनुसार लुलु मॉल एक कट्टर सोच रखने वाले धर्म के व्यक्ति का है, जिससे काफी मात्रा में काला धन उपयोग हो रहा है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने पत्र के जरिये सनातन धर्म के लोगों से मॉल का बॉयकॉट करने के लिए कहा है।

महंत राजू दास ने चेतावनी दी कि अगर लुलु मॉल में नमाज पढ़ी जाती है तो वह लुलु मॉल में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे।
महंत राजू दास ने चेतावनी दी कि अगर लुलु मॉल में नमाज पढ़ी जाती है तो वह लुलु मॉल में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे।

लुलु मॉल में हनुमान चालीसा का पाठ- राजूदास

इससे पू्र्व में महंत राजू दास ने चेतावनी दी कि अगर लुलु मॉल में नमाज पढ़ी जाती है तो वह लुलु मॉल में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा करने से कोई नहीं रोक पाएगा। अब महंत राजू दास ने लुलु मॉल में 20 फीसदी हिंदू लड़कियों को काम देने को लेकर गंभीर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि आगे कहीं न कहीं लव-जिहाद जैसा मामला जरूर उठेगा।

आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?
मोहन भागवत का बड़ा बयान- 'धर्म परिवर्तन से देश में बढ़ रही फूट'
यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फीता काटकर राज्य के सबसे बड़े मॉल का उद्घाटन किया था।
यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फीता काटकर राज्य के सबसे बड़े मॉल का उद्घाटन किया था।
आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?
पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों (हिन्दू) पर अत्याचार जारी, 16 साल की लड़की को अगवा कर जबरन करवाया धर्मांतरण

सीएम योगी ने 10 जुलाई को किया था उद्घाटन

यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फीता काटकर राज्य के सबसे बड़े मॉल का उद्घाटन किया था। यह यूपी का पहला मॉल है, जहां 3000 वाहनों की पार्किंग की क्षमता है। इस मॉल में एक साथ 50000 लोग खरीदारी कर सकते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लुलु शॉपिंग मॉल के उद्घाटन के कुछ घंटे बाद वहां नमाज अदा करने वाले कुछ लोगों का एक वीडियो वायरल हुआ था। जिसके बाद सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कमेंट्स आने लगे।

आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?
'सर तन से जुदा' बयान देने वाला निजाम गौहर चिश्ती हैदराबाद से गिरफ्तार
इस शॉपिंग मॉल के उद्घाटन के मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ लुलु ग्रुप के मुखिया एम.ए.यूसुफ अली मौजूद थे।
इस शॉपिंग मॉल के उद्घाटन के मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ लुलु ग्रुप के मुखिया एम.ए.यूसुफ अली मौजूद थे।

लुलु मॉल के मुखिया है एम.ए.यूसुफ अली

लुलु मॉल में खरीदारों को एक साथ 300 से अधिक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ब्रांड मिल सकेंगे। इस शॉपिंग मॉल के उद्घाटन के मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ लुलु ग्रुप के मुखिया एम.ए.यूसुफ अली मौजूद थे। दरअसल, उन्होंने खुद सीएम योगी आदित्यनाथ को पूरे मॉल के बारे में बताया था और इसकी खासियत से भी अवगत कराया था।

आखिर ये लुलु- लुलु क्या है? क्यूं बढ़ रहा विवाद?
हिंदुस्तान में हिन्दू को खतरा ! 'सर तन से जुदा' का सिलसिला जारी, क्या कन्हैया लाल और उमेश कोल्हे के बाद भरतपुर के पुजारी की बारी?

Related Stories

No stories found.
Since independence
hindi.sinceindependence.com