अब ब्याह का सीजन, 147 दिन बाद बज रही शहनाई, 45 हजार से अधिक शादियां में वोट मांगते नजर आएंगे नेताजी

Rajasthan Election 2023: कार्तिक शुक्ल एकादशी पर देवउठनी एकादशी का स्वयंसिद्ध अबूझ मुहूर्त है। 147 दिन के लंबे अंतराल के बाद फिर से शादी-ब्याह आदि मांगलिक कार्य शुरू हो रहे है।
अब ब्याह का सीजन, 147 दिन बाद बज रही शहनाई, 45 हजार से अधिक शादियां में वोट मांगते नजर आएंगे नेताजी
अब ब्याह का सीजन, 147 दिन बाद बज रही शहनाई, 45 हजार से अधिक शादियां में वोट मांगते नजर आएंगे नेताजी Image cridet: sinceindependence

Rajasthan Election 2023: कार्तिक शुक्ल एकादशी पर आज देवउठनी एकादशी का स्वयंसिद्ध अबूझ मुहूर्त है।

147 दिन के लंबे अंतराल के बाद फिर से शादी—ब्याह आदि मांगलिक कार्य शुरू हो रहे है। घर—घर उत्सवी माहौल है, मैरिज गार्डनों में सुबह से ही रौनक नजर आ रही है।

शाम होते ही गली-गली, सड़क-सड़क बैंड-बाजा, बारात की रौनक देखने को मिलेगी। राजधानी में गुरुवार को 2500 से अधिक शादियां हो रही है, जबकि प्रदेश में 45 हजार से अधिक शादियां हो रही है। शादियों में नेताजी भी पहुंचेंगे और लोगों से वोट की अपील करते नजर आएंगे।

विवाह आयोजनों से जुड़े लोगों की मानें तो जयपुर के करीब 1500 से अधिक मैरिज गार्डन बुक है। होटले पहले से ही बुक हो चुकी है।

सड़क पर बैंडबाजा और बारात और नाचते बाराती फिर से रौनक बढ़ाएंगे। बाजार में फूल व सब्जियां सब महंगे हो गए है।

फूल मंडी में फूल दोगुने दामों में बिके, सब्जियों के दामों में भी तेजी रही। वहीं वाहनों की भी मारामारी रहेगी।

5 हजार से अधिक शादियां

ऑल वेडिंग इंस्डस्ट्रीज फैडरेशन राजस्थान के महामंत्री भवानी शंकर माली ने बताया कि जयपुर जिले में 5 हजार से अधिक शादियां हो रही है। जबकि प्रदेश में 45 हजार से अधिक शादियां हो रही है। राजधानी जयपुर में ही ढाई हजार से अधिक विवाह के आयोजन हो रहे है। पिछली देवउठनी एकादशी से इस बार 25 से 30 प्रतिशत महंगाई की मार है।

वोट मांगते नजर आएंगे नेताजी

विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार का आज अंतिम दिन है, शाम 6 बजे से चुनाव प्रचार थम जाएगा, इसके बाद नेताजी शादी-ब्याह में वोट मांगते नजर आएंगे। चुनावों के बीच शादी-ब्याह होने से शादियों पर भी चुनावी रंग नजर आ रहा है।

ऑल इंडिया टेंट डेकोरेटर्स वैलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष रवि जिंदल का कहना है कि नेताजी क्षेत्र की अधिक से अधिक शादियों में पहुंचेंगे। वहां लोगों से मेजजोल करने के साथ वोट की मनुहार भी करेंगे।

फूल भी महंगे

चुनावों के बीच देवउठनी एकादशी सावा होने से बाजार में अभी से फूलों की मारामारी शुरू हो गई है। बाजार में फूल व सब्जियां सब महंगे हो गए है। फूल मंडी में फूल दोगुने दामों में बिक रहे है। लाइट डेकोरेशन का भी खर्चा बढ़ गया है।

इस साल 10 दिन पंचांगीय मुहूर्त

ज्योतिषाचार्य पं अक्षय शास्त्री ने बताया कि 4 महीने 25 दिन बाद देवप्रबोधिनी एकादशी (देवउठनी) पर विवाह आदि मांगलिक कार्य प्रारम्भ हो गए है।

इस साल नवंबर और दिसम्बर में 10 दिन सावे है। नवंबर में 5 दिन पंचांगीय विवाह मुहूर्त है। इसके अलावा 23 नवंबर केा देवउठनी एकादशी का अबूझ सावा है। वहीं दिसम्बर में भी 5 दिन विवाह मुहूर्त है।

अब ब्याह का सीजन, 147 दिन बाद बज रही शहनाई, 45 हजार से अधिक शादियां में वोट मांगते नजर आएंगे नेताजी
Rajasthan Election 2023: मेवाड़ की सत्ता में इस बार टकराएंगी लोकतंत्र की तलवारें

Related Stories

No stories found.
logo
Since independence
hindi.sinceindependence.com